Sports

खेल डैस्क : एक तरफ ऋषभ पंत जहां बर्मिंघम के मैदान पर 146 रन की पारी खेलकर क्रिकेट दिग्गजों की तारीफें बटोर रहे हैं। वहीं, पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज दानिश कनेरिया ने अपने यूट्यूब पर एक वीडियो डालकर पंत के खेलने के तरीके पर सवाल उठाए हैं। कनेरिया ने वीडियो में साफ कहा कि जिस तरह पंत खेले वह बड़े स्कोर तक नहीं पहुंच पाते। अगर उन्हें बड़े स्कोर बनाने हैं तो सीरीयस होकर खेलना होगा। कनेरिया ने इस दौरान पंत के एंडरसन को मारे गए रिवर्स स्कूप पर बात करते हुए कहा कि यह मूर्खतापूर्ण शॉट था।

ENG vs IND, Rishabh Pant, Reverse scoop shot, Team india, cricket news in hindi,  इंग्लैंड बनाम भारत, ऋषभ पंत, रिवर्स स्कूप शॉट, टीम इंडिया, क्रिकेट समाचार हिंदी में

कनेरिया ने कहा- पंत और जडेजा के खिलाफ इंग्लैंड के गेंदबाज साधारण दिख रहे थे। मैं वास्तव में उनकी बल्लेबाजी का आनंद ले रहा था लेकिन जब मैंने पंत को रिवर्स स्वीप के लिए जाते देखा तो मुझे थोड़ा गुस्सा आया। वह इतने अच्छे खिलाड़ी हैं लेकिन उन्हें परिपक्वता लाने की जरूरत है। मैं (रवि) शास्त्री की कमेंट्री सुन रहा था जब वह पंत के शॉट चयन के बारे में बात कर रहे थे। लेकिन मुझे समझ नहीं आता कि वह अपना विकेट क्यों फेंकना चाहता है। वह इसके बिना 150-200 रन भी बना सकते हैं। 

ENG vs IND, Rishabh Pant, Reverse scoop shot, Team india, cricket news in hindi,  इंग्लैंड बनाम भारत, ऋषभ पंत, रिवर्स स्कूप शॉट, टीम इंडिया, क्रिकेट समाचार हिंदी में

कनेरिया ने कहा- भगवान ने उसे (पंत को) सब कुछ दिया है, लेकिन मुझे नहीं पता कि वह जल्दबाजी में शॉट क्यों लेता है। वह कवर ड्राइव खेलता है और एंडरसन को मैदान में मारता है। वह इन शॉट्स को खेल सकता है लेकिन फिर भी यह एक लापरवाह शॉट है। मैं इससे निराश हूं। मैं इसे मूर्खता कहूंगा। यह एक शानदार पारी थी लेकिन पंत को और अधिक परिपक्व होने की जरूरत है। 

बता दें कि पंत 146 रन बनाकर जब पवेलियन लौटे तो टीम इंडिया का स्कोर 320 रन हो चुका था। पंत के बाद उनके साथी रविंद्र जडेजा भी शतक लगाने में सफल रहे। अंत के ओवरों में पहले मोहम्मद शमी तो बाद में कप्तान जसप्रीत बुमराह ने भी हाथ खेले। बुमराह तो इस दौरान स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर से 35 रन खींचने में कामयाब रहे। टीम इंडिया ने पहली पारी में 416 रन बनाए हैं जोकि इंगलैंड में पहली पारी में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर है।

.
.
.
.
.