Sports

बार्सिलोना: अनुभवी बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल और किदांबी श्रीकांत तोक्यो ओलंपिक 2020 में खेलने की उम्मीदों को जीवंत रखने के लिए मंगलवार से यहां शुरू हो रहे स्पेन मास्टर्स में दमदार प्रदर्शन करना चाहेंगे। इन दोनों भारतीय खिलाड़ियों के लिए 2019 बेहद ही निराशाजनक रहा और इस साल की शुरुआत में भी उनके प्रदर्शन में दमखम की कमी दिखी।  साइना 2020 में खेले गए तीनों टूर्नामेंटों के पहले दौर की चुनौती ही पार कर सकीं जबकि श्रीकांत को तीनों प्रतियोगिताओं के पहले दौर में हार का सामना करना पड़ा।

साइना और श्रीकांत की मौजूदा रैंकिंग क्रमश: 18वीं (महिला) और 15वीं(पुरुष) है जबकि ‘रेस टू तोक्यो' में यह देनों खिलाड़ी क्रमश: 22वें और 26वें स्थान पर हैं। बीडब्ल्यूएफ ओलंपिक क्वालीफिकेशन नियमों के मुताबिक, अप्रैल अंत में शीर्ष-16 रैकिंग के अंदर रहने वाले खिलाड़ी ओलंपिक के लिए सीधे क्वालीफाई कर सकते हैं लेकिन एकल वर्ग में एक देश के अधिकतम दो खिलाड़ी क्वालीफाई कर सकते हैं। 

भारतीय खिलाड़ियों में एकल वर्ग में विश्व चैंपियन पीवी सिंधु और बी साई प्रणीत के अलावा सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की पुरुष युगल जोड़ी ने अपना टिकट लगभग पक्का कर लिया है। ओलंपिक टिकट हासिल करने की आखिरी तारीख अप्रैल के अंत तक है और तब तक सिर्फ सात टूर्नामेंट बचे हैं, ऐसे में भारतीय खिलाड़ियों को लगातार अच्छा प्रदर्शन करना होगा। लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना अपने अभियान का आगाज जर्मनी की यूवोन्ने ली के खिलाफ करेंगी। तीसरी वरीयता प्राप्त श्रीकांत 1,70,000 डालर इनामी टूर्नामेंट में एक अन्य भारतीय खिलाड़ी शुभंकर डे के खिलाफ अपने अभियान का आगाज करेंगे। 

.
.
.
.
.