Sports

फ्लोरिडा : महिला टेनिस संघ (डब्लयूटीए) के अध्यक्ष स्टीव साइमन ने कहा है कि रूस और बेलारूस के खिलाड़यिों को उनके सरकार के फैसले के चलते बैन नहीं किया जाएगा। रूसी सेना के यूक्रेन पर आक्रमण के बाद रूस और बेलारूस के खिलाड़यिों को देश राष्ट्रीय ध्वज और देश के नाम के साथ प्रतिस्पर्धा करने की इजाजत नहीं दी जा रही है। साइमन के हवाले से बीबीसी ने कहा कि आप नहीं जानते कि भविष्य में क्या हो, लेकिन मैं आपसे कह सकता हूं कि हम उनके राजनेताओं द्वारा लिए गए फैसलों के कारण अपने टूर के लिए खिलाडिय़ों पर प्रतिबन्ध नहीं लगाएंगे। 

गौरतलब है कि अन्य अंतरराष्ट्रीय खेल निकायों जैसे बैडमिंटन, वेट लिफ्टिंग, शूटिंग आदि ने रूस और बेलरूसी खिलाडिय़ों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में हमारा यह कदम काफी महत्वपूर्ण होगा, लेकिन हम नहीं जानते कि यह कहां जा रहा है। मेरा मानना है कि इन एथलीटों को फासीवादी नेतृत्व द्वारा ले गए फैसलों के कारण सजा नहीं देनी चाहिए। यह सच में भयानक और निदंनीय है।

साइमन ने कहा कि लेकिन अगर ऐसा होता है, तो यह फिर से रूस और रूसी नागरिकों को समग्र बनाने की रणनीति का हिस्सा है, उनकी सरकार ने जो निर्णय लिया है, उसके लिए उन्हें परिणाम ने भुगतना पड़े। साइमन बोले- मुझे उम्मीद है कि हम रूस पर लगे प्रतिबंधों जारी रखेंगे। हम शांति पाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं, लेकिन ये लोग निर्दोष हैं और उनकी सरकार द्वारा लिए गए फैसलों के परिणामस्वरूप इन्हें अलग-थलग करना, मुझे नहीं लगता कि यह उचित है।

गौरतलब है कि यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के परिणामस्वरूप अक्टूबर में होने वाले डब्लयूटीए और एटीपी टूर्नामेंट स्थगित कर दिए गए हैं। इसके अलावा रूस और बेलारूस में होने वाले अंतरराष्ट्रीय टेनिस संघ (आईटीएफ) के सभी टूर्नामेंटों को रद्द कर दिया गया है।

.
.
.
.
.