Sports

मुंबई : मोटी कीमत पर बिकने से भी खिलाड़ी पर अनावश्यक दबाव बनता है और यही वजह थी भारतीय टीम के वर्तमान कप्तान रोहित शर्मा और विराट कोहली ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की नीलामी में सर्वाधिक धनराशि में बिके ईशान किशन को उन चीजों को लेकर परेशान नहीं होने की सलाह दी थी जो उनके नियंत्रण में नहीं हैं। मुंबई इंडियंस ने ईशान को नीलामी में 15.25 करोड़ रुपए की मोटी कीमत में खरीदा था, लेकिन झारखंड का रहने वाला यह विकेटकीपर बल्लेबाज अभी उसके अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाया है। 

उन्होंने आईपीएल के वर्तमान सत्र में अब तक केवल 321 रन बनाए हैं। ईशान ने स्वीकार किया कि मोटी कीमत का दबाव पहले कुछ दिन तक उनके दिमाग में बन गया था लेकिन भारतीय टीम के उनके साथियों ने उन्हें इस बारे में नहीं सोचने की सलाह दी। इशान ने मुंबई और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच होने वाले मैच की पूर्व संध्या पर कहा कि मोटी कीमत पर खरीदे जाने का दबाव पहले कुछ दिन तक रहेगा और जब इसका अहसास होता है तो सीनियर साथियों से बात करना और उन्हें अपनी समस्या बताने का फायदा मिलता है।

उन्होंने कहा कि कई सीनियर जैसे रोहित (शर्मा), विराट भाई (विराट कोहली) और हार्दिक भाई (पंड्या) ने कहा कि मुझे मोटी कीमत के बारे में नहीं सोचना चाहिए, क्योंकि मैंने यह धनराशि नहीं मांगी थी। यदि किसी ने (मुझ पर) विश्वास किया है, तो तब उन्होंने ऐसा (बड़ी बोली लगाना) किया। मोटी कीमत के बारे में सोचने के बजाय यह महत्वपूर्ण है कि मैं अपने खेल में सुधार करने के बारे में कैसा सोचता हूं। सीनियर से बात करने पर मुझे इसमें मदद मिली क्योंकि वे सभी उस दौर से गुजर चुके हैं।

ईशान ने कहा कि कप्तान रोहित और मुख्य कोच माहेला जयवर्धने ने उन्हें अपना स्वाभाविक खेल खेलने की सलाह दी थी। कप्तान और कोच ने मुझे अपना (स्वाभाविक) खेल खेलने को कहा। टीम में सभी की अपनी भूमिका है और मेरी भूमिका टीम को अच्छी शुरुआत देना है। यदि मैं क्रीज पर पांव जमा लेता हूं तो मुझे 30 और 40 रन पर आउट होने से बचना चाहिए और उसे बड़े स्कोर में बदलना चाहिए। 

.
.
.
.
.