Sports

बेंगलुरु : भारतीय हॉकी पुरुष टीम के फॉरवर्ड दिलप्रीत सिंह का कहना है कि खेलो के महाकुंभ ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करना उनका एकमात्र लक्ष्य है। अब तक के अपने छोटे करियर में हॉकी चैंपियंस ट्रॉफी ब्रेडा 2018 में रजत पदक और एशियाई खेलों 2018 में कांस्य पदक जीतने वाली टीम में शामिल रहे दिलप्रीत ने कहा कि वर्तमान चरण भारतीय टीम में युवाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 

20 वर्षीय युवा खिलाड़ी ने कहा- कोरोना महामारी के कारण ओलंपिक के वर्ष 2021 तक स्थगित होने से उभरते हुए युवा खिलाडिय़ों के पास अपने कौशल और प्रतिभा को निखार कर ओलंपिक टीम में जगह बनाने का बड़ा मौका है। दिलप्रीत ने कहा- ओलंपिक तक पहुंचने वाले महीने युवाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण चरण होते हैं क्योंकि इस तरह के अवसर रोज़ नहीं आते हैं। ओलंपिक में खेलना किसी भी खिलाड़ी के लिए एक सपना है और हम सभी के पास कुछ ही महीनों में अपने सपने को वास्तविकता में बदलने का एक बड़ा मौका है।

फॉरवर्ड खिलाड़ी ने कहा- मैदान पर फिर से वापसी करना निश्चित रूप से अछ्वुत है। मुझे खेल के लिए अपने आप में एक नया जोश मिला है और मैं इसके हर मिनट से प्यार कर रहा हूं। हम इस हम समय ले रहे है लेकिन हम हर दिन सुधार कर रहे हैं और आगे बढ़ रहे हैं, जो सबसे महत्वपूर्ण है। पिछले कुछ महीनों में हॉकी इंडिया और साई असाधारण रूप से मददगार रहे हैं।

.
.
.
.
.