Sports

चेन्नई : क्रिकेट विश्व कप में स्टैंडबॉय होने के बाद भी नजरअंदाज होने के बाद संन्यास लेने वाले अंबाती रायुडू ने अर्से बाद अपनी चुप्पी तोड़ी है। रायुडू जिन्होंने बीते दिन ही संन्यास से वापसी की है, ने आते ही अपने उस ट्विट पर बात की है जिसमें उन्होंनेे चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद के ‘त्रिआयामी (थ्रीडी)’ बयान पर तंज कसा था। दरअसल, वल्र्ड कप टीम में रायुडू की जगह विजय शंकर को चुना गया था। प्रसाद ने कहा था कि विजय क्रिकेट के तीनों डायमैंशन (बल्लेबाजी, बॉलिंग, फील्डिंग) में अच्छे हैं। इस पर रायुडू ने ट्विट किया था कि मैंने वल्र्ड कप देखने के लिए थ्री डी चश्मा ऑर्डर कर दिया है।

Rayudu on his ‘3D’ comment: 'I don’t regret anything'

अब संन्यास से लौटकर रायुडू ने कहा है उन्हें अपने बयान पर कोई पछतावा नहीं है। बकौल रायुडू- मुझे कुछ भी पछतावा नहीं है। हां, विश्व कप के लिए नजरअंदाज किए जाने ने मैं प्रभावित किया। हां, यह याद करना निराशाजनक है। मैं इसमें (विश्व कप) खेलने के लिए उत्सुक था ... मैं विश्व कप खेलने के लिए तैयार था। इस बारे में फैसला करने का हक उनके पास था। वे उनकी योजना थी और मुझे यकीन है कि यह टीम के सर्वश्रेष्ठ हित और पूर्वाग्रह के बिना किया गया था।

Rayudu on his ‘3D’ comment: 'I don’t regret anything'

रायुडू ने कहा कि उन्होंने हैदराबाद के दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण, नोएल डेविड और चेन्नई सुपर किंग्स फ्रेंचाइजी के अधिकारियों की बात मानते हुए संन्यास से वापस आने का फैसला किया। उन्होंने कहा- सीएसके के अधिकारी, लक्ष्मण भाई और नोएल भाई ने मुझ से बात की और मुझे लगा कि संन्यास के फैसले पर फिर से विचार करना चाहिए। मैंने इसके बारे में सोचा और लगा कि मैंने जल्दबाजी में फैसला किया था। रायुडू ने पिछले सप्ताह हैदराबाद क्रिकेट संघ को ईमेल भेजकर संन्यास से वापसी और सभी तीनों प्रारूपों में खेलने की इच्छा व्यक्त की।

.
.
.
.
.