Sports

नई दिल्ली : क्रिकेट में उम्र महज एक आंकड़ा होती है और इस बात को साबित कर दिखाया है जी एस हैरी ने जिन्होंने 52 साल की उम्र में दोहरा शतक बनाने का कारनामा कर दिखाया है। 52 साल से अधिक की उम्र के हैरी ने एक कॉर्पोरेट मैच में मात्र 74 गेंदों पर 210 रनों की नाबाद पारी खेली जिसमें उन्होंने 19 छक्के और 21 चौके उड़ाए। 

हैरी ने दिल्ली के परमार्थ खेल मैदान पर शनिवार को खेले गए इस मुकाबले में न केवल दोहरा शतक बनाया बल्कि दसवें विकट के लिए 260 रनों की साझेदारी भी की। हैरी ने इससे पहले 2010 में मात्र 25 गेंदों पर 104 रनों की ताबड़तोड़ शतकीय पारी खेली थी। हैरी का मानना है कि खेलों में जब किसी के अंदर कुछ कर दिखाने का जज्बा और जूनून हो तो उम्र कोई मायने नहीं रखती है। 

इस मुकाबले में जोश्ना क्रिकेट क्लब ने 387 रन बनाए जिसमें मृदुल आर्य ने 132 और रामा जोश्ना ने 119 रनों का योगदान दिया। इसके जवाब में जीएस हैरी अकादमी की टीम ने 331 रन बनाये। हैरी की टीम हार गयी लेकिन हैरी को उनके नाबाद दोहरे शतक के लिए प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया। 

.
.
.
.
.