Sports

हैदराबाद : युवा आल राउंडर शिवम दुबे (Shivam Dube) ने कहा कि वह भारत की टी20 टीम में हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) की जगह लेने की कोशिश में नहीं जुटे हैं लेकिन निश्चित रूप से मिलने वाले मौके का फायदा उठाने का प्रयास करेंगे। पांड्या पीठ की चोट के कारण एक महीने से टीम से बाहर हैं जिसकी इंग्लैंड में सर्जरी की जरूरत पड़ी। वह इस समय रिहैबिलिटेशन प्रक्रिया से गुजर रहे हैं जिसके कारण ही शिवम का टीम में जगह बनाने का रास्ता बना और अब वह वेस्टइंडीज के खिलाफ आगामी सीमित ओवर की श्रृंखला की तैयारियों में जुटे हैं जो यहां शुक्रवार को पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय के साथ शुरू हो रही है। मुंबई के इस आल राउंडर ने अभी तक तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं जो सभी बांग्लादेश के खिलाफ थे जिसमें उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 30 रन देकर तीन विकेट था।

हार्दिक पांड्या की जगह शिवम दुबे

hardik pandya photo, hardik pandya images, हार्दिक पांड्या फोटो

यह पूछने पर कि क्या वह हार्दिक को टीम से बाहर करने की कोशिश में हैं तो शिवम ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह हार्दिक को हटाने का मौका है लेकिन मुझे लगता है कि मुझे मौका मिला है और मैं अपने देश के लिए अच्छा करने का प्रयास करूंगा। मुझे अपने देश के लिए काम करना है और मैं इसे बेहतर तरीके से करने की कोशिश करूंगा।' शिवम मुख्यत: गेंदबाजी आल राउंडर है, जो बड़े शाट लगा सकता है और वह वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय में खुद को साबित करने का लक्ष्य बनाये हैं। अभी तक खेले तीन मैचों में उन्होंने इतना शानदार प्रदर्शन नहीं दिखाया, वह बांग्लादेश के खिलाफ बस एक बार तीन विकेट ही झटका पाए थे। लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें विराट कोहली और टीम प्रबंधन का सहयोग प्राप्त है।

शिवम दुबे आल राउंडर होना हमेशा मुश्किल

PunjabKesari, shivam dube photo

उन्होंने कहा, ‘हर कोई मेरा उत्साह बढ़ा रहा है। कप्तान और टीम प्रबंधन से काफी सहयोग मिल रहा है। इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ता है। इसलिए ड्रेसिंग रूम में मैं खुश और रिलैक्स महसूस करता हूं।' शिवम ने कहा कि फिटनेस आल राउंडर की सफलता में काफी अहम होती है। उन्होंने कहा, ‘आल राउंडर होना हमेशा मुश्किल होता है। मेरे लिए बतौर आल राउंडर सबसे अहम अपना फिटनेस स्तर बरकरार रखना होता है क्योंकि आपको बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों करने की जरूरत होती है। इसलिए फिटनेस बनाए रखना सबसे मुश्किल काम होता है।' 

.
.
.
.
.