Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : महान विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी एक साल से मैदान से दूर हैं। कुछ पूर्व खिलाड़ियों का मानना है कि इस बार आईपीएल में उनकी परफार्मैंस काफी मायने रखते जिससे उनकी इंटरनेशनल टीम में वापसी होगी। वहीं पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा की मानें तो आईपीएल का धोनी के अंतरराष्ट्रीय करियर के कोई लेना देना नहीं है। नेहरा के मुताबिक वह अपना आखिरी मैच खेल चुके हैं और उनके पास साबित करने के लिए कुछ नहीं है। 

नेहरा ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, जहां तक धोनी के अंतरराष्ट्रीय करियर का सवाल है, मुझे नहीं लगता कि इस आईपीएल का इससे कोई लेना-देना है। यदि आप एक चयनकर्ता हैं, आप एक कप्तान हैं, आप एक कोच हैं तो सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यदि वह खेलने के लिए तैयार है, तो सूची में मेरा नंबर होगा। उन्होंने कहा, जितना मैं धोनी को जानता हूं, मुझे लगता है कि उन्होंने भारत के लिए अपना आखिरी मैच खुशी से खेला है। धोनी के पास साबित करने के लिए कुछ नहीं है। 

पूर्व खिलाड़ी ने आगे कहा, हम सभी इन बातों (धोनी के संन्यास) पर चर्चा करते हैं क्योंकि आप मीडिया के लोग सकते हैं उसने अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा नहीं की है, इसलिए मुझे लगता है कि उसे एक फोन करना चाहिए, केवल वही बता सकता है कि उसके दिमाग में क्या है। नेहरा ने न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप 2019 सेमीफाइनल में धोनी की पारी की ओर भी इशारा किया और कहा कि जब तक वह मध्य में थे भारत के पास फाइनल में पहुंचने का मौका था। 

नेहरा ने कहा, मेरे लिए धोनी का खेल कभी कम नहीं हुआ है। उन्होंने जो आखिरी मैच खेला, उसमें भारत को विश्व कप फाइनल तक पहुंचने का मौका था, जब तक धोनी वहां थे और जिस मिनट वह रन आउट हुए उससे हर कोई उम्मीद खो बैठा। ये दिखाता है कि उस समय भी उनका खेल कहां था। वह जानता है कि टीम को कैसे चलाना है, वह जानता है कि युवाओं को आगे कैसे बढ़ाया जाए और इन सभी चीजों को मुझे बार-बार दोहराने की जरूरत नहीं है। 

मुझे नहीं लगता कि एक खिलाड़ी के तौर पर इस आईपीएल से महेंद्र सिंह के स्टेटस पर कोई फर्क पड़ेगा। मुझे नहीं लगता कि आईपीएल जैसा टूर्नामेंट धोनी के चयन का मानदंड होना चाहिए। गौर हो कि धोनी ने भारत के लिए आखिरी मैच विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था जिसमें धोनी रन आउट हुए थे और टीम का विश्व कप जीतने का सपना भी टूट गया था। 

.
.
.
.
.