Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) के 12वें सत्र के लिए खिलाड़ियों पर नीलामी के दाैरान खूब पैसों की बारिश हुई। इस दाैरान फ्रेंचाईजियों ने कुछ युवा खिलाड़ियों पर भी पैसा बहाना जरूरी समझा। लेकिन वहीं कई ऐसे खिलाड़ियों पर किसी भी टीम ने भरोसा नहीं जताया जिनके बिकने की उम्मीद ज्यादा मानी जा रही थी।
PunjabKesari
इस लिस्ट में एक नाम है मनोज तिवारी का भी, जिनको किसी भी टीम ने शामिल नहीं किया। इस नीलामी के बाद मनोज तिवारी का दर्द छलका और सोशल मीडिया पर उन्होंने अपना दर्द इस तरह बयां किया। इस नीलामी से निराश तिवारी ने ट्विटर पर लिखा कि-पता नहीं आखिर मेरे साइड से क्या गलती हुई है कि मैने टीम के लिए शतक लगाया और मुझे मैन ऑफ द मैच से नवाजा गया लेकिन फिर मुझे अगले 14 मुकाबलों में टीम से बाहर रखा गया। इसके साथ ही 2017 के आईपीएल में भी मेरा प्रदर्शन अच्छा था लेकिन मुझे शामिल नहीं किया जा रहा, आखिर मेरी क्या गलती है।
PunjabKesari
इस नीलामी पर अगर नजर डालें तो इसमें कई दिग्गज खिलाड़ियों को खरीदार नहीं मिला । डेल स्टेन, एंजेलो मैथ्यूज, मोने मोर्केल और उस्मान ख्वाजा, चेतेश्वर पु्जारा के हाथ भी निराशा लगी। वहीं, युवराज सिंह पर भी आखिरी समय में मुंबई इंडियंस ने भरोसा जताया था। इस सीजन के लिए तमिलनाडु के वरुण चक्रवर्ती पर पंजाब और जयदेव उनादकट पर राजस्थान ने 8 करोड़ 40 लाख की सबसे बड़ी बोली लगाई है।

PunjabKesari

.
.
.
.
.