Sports

दोहा : आई.ए.ए.एफ वल्र्ड एथलैटिक्स चैम्पियनशिप के दौरान अमरीकी एथलीट एरिका बुगार्ड मुसीबत में फंस सकती हैं। हैप्टाथलीट एरिका दरअसल एल.जी.बी.टी. कम्युनिटी से संबंधित रखती हैं। चैम्पियनशिप के एक इवैंट के दौरान उन्होंने जो जूता पहना था उसपर कम्युनिटी का चिन्ह यानी रेनबो कलर का स्टीकर लगा था। क्योंकि दोहा में एल.जी.बी.टी. से जुड़ी कार्य बैन हैं तो ऐसे में एरिका को नियमानुसार 3 साल की सजा भी भुगतनी पड़ सकती है।

LGBT in Doha Games Possible to punish female player who promotes

हालांकि इस अमरीकी एथलीट ने कहा कि उन्होंने जान-बूझकर ऐसा कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा- वह अक्सर ऐसा करती हैं। उन्हें लगता है कि ऐसा करने से दुनिया भर में बसे हमारी कम्युनिटी के लोग यह देख पाएंगे कि हम कितनी तरक्की कर चुके हैं। मेरे लिए रेनबो स्टीकर लगाना गर्व की बात है, खास तौर पर मैं अपनी साथियों के लिए गर्व का विषय बनना चाहती हूं।

LGBT in Doha Games Possible to punish female player who promotes

चैम्पियनशिप के दौरान मुझे उम्मीद से भी ज्यादा प्रशंसा मिल रही है। आशा है कि मुझे इसका बहुत अधिक नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा। बता दें कि बीते सप्ताह आई.ए.ए.एफ प्रैसिडैंट लॉर्ड कोए से भी एक इंटरव्यू के दौरान इस नियम के बारे में पूछा गया था। तब उन्होंने कहा था कि फिलहाल हम इंटरनैशनल लॉ के साथ चल रहे हैं। अगर यहां लोकल विरोध होगा तो उसको अपने स्तर पर देखा जाएगा।

LGBT in Doha Games Possible to punish female player who promotes

बता दें कि यू.ए.ई. एल.जी.बी.टी. कम्युनिटी को लेकर बेहद सख्त है। यहां कम्युनिटी से जुड़ी एक्टिविटी में संलिप्त पाए जाने पर भी सजा का प्रावधान है।

.
.
.
.
.