Sports

 

 

नई दिल्ली : भारत की विदेशी बैडमिंटन कोच किम जि हुन ने विश्व कप चैम्पियनशिप फाइनल में जापान की नोजोकी ओकुहारा की चुनौती को पस्त करने वाली स्टार खिलाड़ी पीवी सिंधू के प्रदर्शन को बेहतरीन करार किया। दक्षिण कोरिया की पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी और कोच किम ने कहा कि सिंधू ने रणनीति का बेहतरीन ढंग से कार्यान्वयन किया और वह बार-बार एक ही शाट दोहराने की अपनी आदत को रोकने में सफल रही।

जब सिंधू ने टूर्नामेंट के इतिहास के एकतरफा मुकाबलों में से एक में 2017 चैम्पियन ओकुहारा को 21-7 21-7 से हराकर लगातार तीसरे प्रयास में विश्व चैम्पियनशिप खिताब जीता तो किम वही बैठकर मैच देख रही थीं। किम इस साल मार्च में भारतीय कोचिंग दल से जुड़ी थीं। उन्होंने बैडमिंटन विश्व महासंघ से कहा, ‘‘बेहतरीन कार्यान्वयन। वह जिस तरह से खेली, मैं बहुत खुश थी।' उन्होंने कहा, ‘मेरा मतलब है कि शानदार खेल। जब हमने ऐसा कर लिया तो हम बहुत अच्छा महसूस कर रहे थे।' विश्व चैम्पियनशिप और ओलंपिक को ध्यान में रखते हुए किम को सिंधू के कौशल को सुधारने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

बैडमिंटन कोरिया संघ ने जकार्ता एशियाई खेलों में राष्ट्रीय टीम की विफलता के बाद पिछले साल सितंबर में कोचों को बर्खास्त किया था जिसमें किम भी शामिल थीं। उन्होंने कहा, ‘मुझे इस पद की पेशकश हुई थी और मैंने जुड़ने का फैसला किया। पांच महीने बाद हमें सिंधू के रूप में चैम्पियन मिली।' किम अपने कोचिंग कैरियर के 20वें वर्ष में हैं, उन्होंने कहा, ‘उसने काफी व्यक्तिगत ट्रेनिंग की। हमने घंटों तक उसके नेट कौशल पर काम किया। हर कोई जानता है कि वह बेहतरीन खिलाड़ी है लेकिन वह पिछले कई मैचों में एक सी ही चीजें कर रही थी।' उन्होंने कहा, ‘अपने तरीकों को बदलने के लिए आपको उन्हें देखना होता है। मैंने उसकी वीडियो बनाई और फिर मैंने रैली रोकी और उससे पूछा कि वह कौन सा शाट लगाएगी।' 

.
.
.
.
.