Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: आज ही पिछले साल 18 मार्च को दिनेश कार्तिक की करिश्माई बल्लेबाजी ने क्रिकेट की दुनिया में धूम मचा दी थी। कोलंबो के आर प्रेमदासा स्टेडियम में कार्तिक के बल्ले से 8 गेंदों में 29 रनों की बारिश ने बांग्लादेश की जीत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया था। वही छक्का मारते हुए कार्तिक ने करोड़ों भारतीयों का दिल जीत लिया था।

PunjabKesari
दरअसल, दिनेश कार्तिक ने पिछले साल 18 मार्च को जिस मैच में आखिरी गेंद पर छक्का लगाया, वह फाइनल था। बांग्लादेश ने इस टी20 मुकाबले में भारत को 167 रन का लक्ष्य दिया था। जब कार्तिक क्रीज पर उतरे तब तक भारत के हाथ से बाजी छिटकती लग रही थी। भारत ने इस मैच में पांचवां विकेट 133 के स्कोर पर गंवाया। दिनेश कार्तिक जब क्रीज पर उतरे तो भारत को जीत के लिए 12 गेंद पर 34 रन की दरकार थी। 

PunjabKesari
वही लोगों के जेहन में 1986 का वो मैच भी घूम रहा था, जब पाकिस्तान को आखिरी गेंद पर चार रन की जरूरत थी और जावेद मियादाद ने छक्का जमा दिया था।कार्तिक ने भी उस दिन मियादाद का कारनामा दोहराया और भारत को असंभव सी जीत दिला दी। 

ऐसा था आखिरी ओवर का रोमांच
19.1 ओवरः स्ट्राइक पर विजय शंकर: वाइड, एक रन मिला।
19.1 ओवरः स्ट्राइक पर विजय शंकर: कोई रन नहीं बना।
19.2 ओवर: शंकर ने एक रन लेकर स्ट्राइक कार्तिक को दी।
19.3 ओवर: कार्तिक ने सिंगल लिया।
19.4 ओवर: शंकर ने चौका जड़ा।
19.5 ओवरः शंकर मेहदी के हाथों कैच आउट हुए। लेकिन रन के लिए दौड़ने के कारण स्ट्राइक चेंज हो गई। 
19.6 ओवरः कार्तिक ने छक्का मारकर भारत को निदाहास ट्राफी का चैंपियन बना दिया।

.
.
.
.
.