Sports

नई दिल्ली : भारत की जूनियर महिला मुक्केबाजों ने सर्बिया के वरबास में तीसरे नेशन्स कप में चार स्वर्ण पदक सहित कुल 12 पदक जीते। भारतीय टीम ने चार स्वर्ण, चार रजत और चार कांस्य पदक के साथ उप विजेता की ट्राफी भी अपने नाम की। भारत के लिए तमन्ना (48 किग्रा), अंबेशोरी देवी (57 किग्रा), प्रीति दाहिया (60 किग्रा) और प्रियंका (66 किग्रा) ने स्वर्ण पदक जीते। तमन्ना को सर्वश्रेष्ठ विदेशी मुक्केबाज भी चुना गया।

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ के बयान के अनुसार उन्होंने फाइनल में रूस की एलेना ट्रेमासोवा को 5-0 से हराया। मणिपुर की अंबेशोरी और हरियाणा की प्रीति ने कड़े मुकाबलों में क्रमश: स्वीडन की डुना सिपेल और उक्रेन की क्रिस्टीना कार्तवसेवा के खिलाफ 3-2 के समान अंतर से जीत दर्ज की। हरियाणा की प्रियंका ने एकतरफा मुकाबले में रूस की ओल्गा पेत्राश्को को 5-0 से शिकस्त दी। कर्नाटक की अंजू देवी (50 किग्रा), महाराष्ट्र की सिमरन वर्मा (52 किग्रा), हरियाणा की मानसी दलाल (75 किग्रा) और पंजाब की तनिशबीर कौर सिंधू (80 किग्रा) को फाइनल में हार के बाद रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

गोवा की आश्रेया नाईक (63 किग्रा), नेहा (54 किग्रा), खुशी (70 किग्रा) और अल्फिया अकरम खान पठान (80 किग्रा से अधिक) को सेमीफाइनल में हार के बाद कांस्य पदक मिले। टूर्नामेंट में 20 देशों के 160 से अधिक मुक्केबाजों ने हिस्सा लिया। भारत ने टूर्नामेंट के लिए 13 सदस्यीय टीम भेजी थी। 

.
.
.
.
.