Sports

वेलिंगटन: न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज काइल जेमीसन ने खुलासा किया है कि केंटरबरी छोड़कर आकलैंड आने से उन्हें अपने आक्रामक स्वभाव से निपटने और राष्ट्रीय टीम की ओर से खेलने के लिए बेहतर क्रिकेटर बनने में मदद मिली। हाल में भारत के खिलाफ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला में पदार्पण करने वाले छह फीट आठ इंच लंबे जेमीसन को 21 फरवरी से बेसिन रिजर्व में शुरू हो रही दो टेस्ट की श्रृंखला के लिए न्यूजीलैंड की टीम में जगह दी गई है। 

दरअसल, जेमीसन के हवाले से कहा, ‘मैं मैदान पर काफी जोशीला व्यक्ति हूं। मैं मैदान पर काफी आक्रामक हूं।' जेमीसन मौजूदा सत्र से पहले आकलैंड लौट आए जहां उनका जन्म हुआ था। इससे पहले 2016 में उन्होंने सुपर स्मैश में केंटरबरी की ओर से टी20 पदार्पण किया। जेमीसन ने कहा कि केंटरबरी में उनके आसपास काफी नकारात्मकता थी और इससे उनके बर्ताव पर असर पड़ा। 

जेमीसन ने आगे कहा, ‘मेरे आसपास नकारात्मकता थी और इस माहौल का मैदान पर मेरे बर्ताव पर असर पड़ रहा था।' पिछले साल आस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला के लिए कवर के तौर पर टीम में शामिल किए गए 25 साल के जेमीसन ने कहा कि आकलैंड लौटने से उनके खेल में काफी अंतर आया। भारत के खिलाफ ईडन पार्क में दूसरे वनडे में पदार्पण करते हुए जेमीसन ने 25 रन बनाने के अलावा 42 रन देकर दो विकेट चटकाए थे।

.
.
.
.
.