Sports

नई दिल्ली : इंग्लैंड दौरे के रद्द होने के कारण अभ्यास से वंचित रहने वाली भारतीय महिला क्रिकेट टीम की स्पिनर पूनम यादव ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण लंबे समय से क्रिकेट से दूर रहने के कारण विश्व कप में खेलना काफी मुश्किल होगा। विश्व कप से पहले भारतीय महिला क्रिकेट टीम के पास बड़े टूर्नामेंट के रूप में सिर्फ इंग्लैंड दौरा था लेकिन कोविड-19 के कारण इस सप्ताह उसे रद्द कर दिया गया। 

पूनम ने कहा, ‘अगर आप चार-पांच महीने के बाद मैदान पर उतरते हैं, तो किसी भी खिलाड़ी के लिए तुरंत प्रदर्शन करना बहुत मुश्किल होगा।' उन्होंने कहा, ‘हम खुद को फिट रख रहे हैं और जब हमें समूह में फिर से अभ्यास करने की अनुमति मिलेगी, तब हमें पूरी फिटनेस हासिल करने में 20-25 दिन लगेंगे। पूनम ने मार्च में मेलबर्न क्रिकेट मैदान में टी20 विश्व कप का फाइनल खेलने के बाद पूरी तरह से क्रिकेट की सुविधा वाला मैदान नहीं देखा है।

अगले साल होने वाले विश्व कप से पहले प्रस्तावित इकलौता टूर्नामेंट के रद्द होने से इस बात की संभावना है कि वह इस साल अब कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेल सकें। न्यूजीलैंड में 2021 फरवरी-मार्च में होने वाले विश्व कप के भाग्य का फैसला अगले दो सप्ताह के अंदर हो सकता है। पिछले विश्व कप की उपविजेता भारतीय टीम को उम्मीद है कि वह न्यूजीलैंड में खिताबी सूखे को खत्म कर सकेगी। विश्व कप से पहले किसी टूर्नामेंट में भाग नहीं लेने से हालांकि यह काफी मुश्किल होगा। 

भारत की तरफ से 46 एकदिवसीय और 67 टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाली पूनम ने कहा, ‘यह एक बड़ी चुनौती है। मैं यहां गेंदबाजी कर रही हूं लेकिन यह प्रतिस्पर्धी माहौल से बिल्कुल अलग है। हम आखिरी बार मार्च में खेले थे और हमारी अगली श्रृंखला को लेकर अभी स्पष्टता नहीं हैं।' कोविड-19 के कारण देश में लागू लॉकडाउन के बीच पूनम को परिवार के साथ समय बिताने के अलावा अपने मन का काम करने का पूरा मौका मिला।

उन्होंने ने बताया, ‘इस समय में मैंने ऐसे कई कम किये जिसके लिए पहले समय नहीं मिल पाता था। परिवार के साथ समय बिताना, टेलीविजन देखना (महाभारत और रामायण)। मैं अब खाना बना सकती हूं।' टी20 विश्व कप में शानदार प्रदर्शन करने वाली पूनम से जब बड़े मैचों में भारतीय टीम के लचर प्रदर्शन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘बड़े मैचों में दवाब को बेहतर तरीके से झेलना होता हैं और ऑस्ट्रेलिया (टी20 विश्व कप) ने हम से बेहतर किया।' 

.
.
.
.
.