Sports

जालन्धर : एथलैटिक्स की जैवलिन स्पर्धा में नीरज चोपड़ा ने क्वालीफिकेशन राऊंड में ही 86 मीटर लंबी थ्रो फेंककर पहला स्थान हासिल किया। खास बात यह है कि वह 40 से ज्यादा जैवलिन थ्रोअर से आगे हैं। उनका मैडल पक्का लग रहा है क्योंकि उनका पर्सनल रिकॉर्ड 88 मीटर से भी ज्यादा है जिस तक क्वालीफिकेशन में कोई भी जैवलिन थ्रोअर नहीं पहुंच पाया। नीरज चोपड़ा अगर जीते तो वह भारत की ओर से एथलैटिक्स में पदक जीतने वाले पहले प्लेयर होंगे या दूसरे। इस पर विवाद होना तय है।

Neeraj Chopra, first athlete, Athletics, Facts, Athletics news in hindi, sports news, एथलैटिक्स, जैवलिन स्पर्धा, नीरज चोपड़ा

दरअसल, अंतरराष्ट्रीय ओलिम्पिक समिति (आई.ओ.सी.) की पदक सूची में भारत के नाम पर दो रजत पदक दर्ज हैं जिन्हें पैरिस ओलिम्पिक 1900 में नार्मन प्रिचार्ड ने 200 मीटर दौड़ और 200 मीटर बाधा दौड़ में जीता था। विवाद इसलिए है क्योंकि विश्व एथलैटिक्स संघ इन पदकों को 2005 में ग्रेट ब्रिटेन के खाते में डाल चुकी है। कोलकाता में जन्मे प्रिचार्ड 1905 में ब्रिटेन में बस गए। वहां हॉलीवुड की फिल्मों कीं। अक्टूबर 1929 में अंतिम सांस ली। वह बाद में कभी भारत नहीं आए। उनके पदकों पर अभी भी भारत दावेदारी जताता रहा है। 

Neeraj Chopra, first athlete, Athletics, Facts, Athletics news in hindi, sports news, एथलैटिक्स, जैवलिन स्पर्धा, नीरज चोपड़ा

नीलिमा घोष और मेरी डिसूजा पहली भारतीय महिला
ओलिम्पिक की एथलेटिक्स प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले पहले मूल भारतीय फर्राटा धावक पूरमा बनर्जी, लंबी दूरी के धावक पादेपा चौगुले और सदाशिव दातार थे। नीलिमा घोष और मेरी डिसूजा ओलिम्पिक में भाग लेने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट थी। उन्होंने 1952 हेलंसिकी ओलिम्पिक में 100 मीटर दौड़ में हिस्सा लिया था। घोष ने 80 मीटर बाधा दौड़ में भी देश का प्रतिनिधित्व किया था।

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन मिल्खा सिंह का

Neeraj Chopra, first athlete, Athletics, Facts, Athletics news in hindi, sports news, एथलैटिक्स, जैवलिन स्पर्धा, नीरज चोपड़ा
भारत की तरफ से 1900 से 2016 तक एथलैटिक्स में 119 पुरुष और 53 महिला एथलीटों ने हिस्सा लिया लेकिन इन खेलों में भारतीय एथलीटों का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन चौथा स्थान रहा। उडऩ सिख मिल्खा सिंह 1960 रोम ओलंपिक में पुरुषों की 400 मीटर दौड़ में चौथे स्थान पर रहे थे। पी.टी. ऊषा ने 1984 लॉस एंजिल्स ओलिम्पिक की महिलाओं की 400 मीटर बाधा दौड़ में वह भी चौथा स्थान हासिल किया। 

बता दें कि भारत की तरफ केटी इरफान, संदीप कुमार और राहुल रोहिल्ला (पुरुषों की 20 किमी पैदल चाल) अविनाश साबले (पुरुषों की 3000 मीटर स्टीपलचेज), शिवपाल सिंह (पुरुष भाला फैंक), कमलप्रीत और सीमा पूनिया (महिला चक्का फैंक), भावना जाट और प्रियंका गोस्वामी (महिलाओं की 20 कि.मी. पैदल चाल), 4&400 मिश्रित रिले में सार्थिक भांबरी, एलैक्स एंथोनी, रेवती वीररेमानी, शुभा वैंकटेशन, धनलक्ष्मी शेखर ने हिस्सा लिया।

.
.
.
.
.