Sports

नई दिल्ली : पूर्व स्ट्राइकर तुषार खांडेकर का मानना है कि भारतीय हॉकी टीम ने पिछले कुछ वर्षों में शीर्ष टीमों के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन करके आत्मविश्वास हासिल किया है और इसलिए वह ओलंपिक खेलों में पदक की प्रबल दावेदार है। ओलिम्पिक खेल 23 जुलाई से तोक्यो में शुरू होंगे। खांडेकर ने ‘हॉकी ते चर्चा’ कार्यक्रम के दौरान कहा कि मुझे लगता है कि अभी टीम (भारतीय पुरुष टीम) जैसा प्रदर्शन कर रही है उसे देखते हुए वे पदक के प्रबल दावेदार हैं। 

उन्होंने कहा कि खिलाड़ी जानते हैं कि ओलिम्पिक जैसी बड़ी प्रतियोगिताओं में छोटी गलतियां कितना नुकसान पहुंचा सकती है। भारतीय टीम ने पिछले महीनों में अर्जेंटीना और यूरोप के अपने दौरों में अच्छा प्रदर्शन किया था। खांडेकर ने कहा कि हमने प्रत्येक ओलिम्पिक खेल से सबक लिया। हम 2008 में क्वालीफाई नहीं कर पाए लेकिन लंदन में 12वें और रियो में आठवें स्थान पर रहे। हमने 2012 में जो गलतियां की थी उनसे सबक लिया था।

उन्होंने कहा कि लंदन ओलिम्पिक में भाग लेने वाले खिलाडिय़ों जैसे श्रीजेश, मनप्रीत, सुनील, दानिश मुज्तबा, रघुनाथ और अन्य रियो में खेले और उन्होंने यह सुनिश्चति किया कि टीम लंदन वाली गलतियों को नहीं दोहराएगी। खांडेकर ने कहा कि इसी तरह से मुझे विश्वास है कि रियो ओलंपिक में खेलने वाले खिलाड़ी टीम को उन गलतियों से आगाह करेंगे जिनसे तोक्यो में बचना है।

.
.
.
.
.