Sports

नई दिल्ली : भारत इस साल होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों की पुरुष और महिला हॉकी स्पर्धाओं के लिए दूसरे दर्जे की टीम भेजेगा क्योंकि बर्मिंघम में होने वाले इन खेलों और हांगझोउ एशियाई खेलों के बीच अधिक समय नहीं है। एशियाई खेल 2024 पेरिस ओलिम्पिक के क्वालीफायर हैं। हॉकी इंडिया के एक शीर्ष अधिकारी ने शनिवार को इसकी पुष्टि की। इससे पहले भारतीय ओलिम्पिक संघ (आईओए) और अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने ऐसा दावा किया था।

हॉकी इंडिया के अधिकारी ने बताया कि हमारे पास 3 टीम हैं, इंडिया सीनियर, भारत ए और जूनियर टीम और इस साल हम राष्ट्रमंडल खेलों के लिए अपनी ‘ए’ टीम भेजेंगे क्योंकि हम नहीं चाहते कि हमारे मुख्य खिलाड़ी अधिक महत्वपूर्ण एशियाई खेलों से पहले ही अपने शीर्ष पर पहुंच जाएं। उन्होंने कहा- एशियाई खेलों की टीम में जगह नहीं बनाने वाले रिजर्व खिलाडिय़ों को वहां (बर्मिंघम) भेजेंगे क्योंकि दोनों खेलों के बीच में सिर्फ 32 दिन का अंतर है। हम चाहते है कि हमारे मुख्य खिलाड़ी एशियाई खेलों के लिए पूरी तरह फिट हों क्योंकि यह ओलिम्पिक क्वालीफायर हैं।

बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन इस साल 28 जुलाई से 8 अगस्त तक होना है जबकि एशियाई खेल 10 से 25 सितंबर तक होंगे। भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने पिछले साल टोक्यो ओलिम्पिक में कांस्य जीता था जो 1980 में मॉस्को खेलों के बाद उसका पहला ओलंपिक हॉकी पदक था। महिला टीम हालांकि कांस्य पदक के प्ले आफ में ग्रेट ब्रिटेन से 3-4 से हारने के बाद पहले ओलंपिक पदक से चूक गई थी। राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पुरुष वर्ग में 2010 और 2014 में रजत पदक है। आस्ट्रेलिया ने 1998 में राष्ट्रमंडल खेलों में हॉकी को शामिल किए जाने के बाद से सभी छह स्वर्ण पदक जीते हैं।

.
.
.
.
.