Sports

नई दिल्ली : इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन का मानना है कि वेस्टइंडीज के खिलाफ एगिस बाउल में पहले टेस्ट मैच के लिए तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड को प्लेइंग इलेवन से बाहर करना इंगलैंड टीम को भारी पड़ रहा है। तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन को मार्क वुड और जोफ्रा आर्चर के साथ मैच में उतारा गया था जबकि ब्रॉड को बेंच पर संतोष करना पड़ा। इस पर ब्रॉड ने बीते दिनों नाराजगी भी जाहिर की थी।

England made a big mistake by taking Broad out of the Test : Nasir Hussain
हुसैन ने एक अखबार में लिखा- मैं ब्रॉड के एक-एक शब्द से सहमत हूं। अगर मैं कप्तान होता, तो मुझे इस तथ्य का आनंद मिलता कि इस निर्णय ने उसे नाराज कर दिया। मुझे पसंद आया कि कैसे ब्रॉड ने राष्ट्रीय चयनकर्ता एड स्मिथ से स्पष्टीकरण मांगा। मैंने एक खिलाड़ी की प्रतिक्रिया को देखा  जिसे हटा दिया गया था। यदि वह क्रोध कर रहा है तो इसका मतलब है कि वह परवाह करता है बिल्कुल जिमी एंडरसन की तरह। आप गेंदबाज से क्रोध को अलग नहीं कर सकते। इसी कारण वह इतना आगे बढ़े हैं। 

England made a big mistake by taking Broad out of the Test : Nasir Hussain

हुसैन ने लिखा- मुझे लगता है कि इंग्लैंड ने उसे छोड़ कर गलती की है। ऐसा लगता है जैसे उन्होंने कूकाबुरा के साथ एक सपाट पिच के लिए एक पक्ष चुना है - ड्यूक के साथ ग्रे आसमान के नीचे एक अंग्रेजी सतह नहीं। विभिन्न परिस्थितियों में एंडरसन और ब्रॉड अच्छा करते हैं। यदि यह ब्रिस्बेन होता तो आप इन्हीं गेंदबाजों को उतारते लेकिन साउथम्पटन में ऐसा क्या नहीं।

England made a big mistake by taking Broad out of the Test : Nasir Hussain

ब्रॉड अपनी पिछली दो टेस्ट श्रृंखलाओं में टीम के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने साउथेम्प्टन टेस्ट से बाहर होने के फैसले को स्वीकारा। हालांकि इसके बाद ब्रॉड ने स्काई स्पोटर््स से बातचीत के दौरान कहा- मैं विशेष रूप से भावुक व्यक्ति नहीं हूं, लेकिन मैंने पिछले कुछ दिनों को कठिन पाया है। यह कहना कि निराश होना एक समझ है, मैं निराश, क्रोधित हूं, क्योंकि इसे समझना काफी कठिन है।

.
.
.
.
.