Sports

नई दिल्ली : विंडीज क्रिकेट बोर्ड में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। अब ड्वेन ब्रावो ने कहा है कि उन्होंने भी क्रिकेट वल्र्ड कप के लिए अपना नाम आखिरी समय तक उपलब्ध रखा था लेकिन विंडीज बोर्ड ने उन्हें मौका नहीं दिया। डीजे ब्रावो ने कहा- विंडीज क्रिकेट के नए पे्रसिडेंट ने कार्यभार संभालकर कहा था कि उन्होंने सबके लिए दरवाजे खोल रखे हैं। मैं क्योंकि इंटरनेशनल क्रिकेट से पहले ही रिटायरमैंट ले चुका था लेकिन मैंने खुद को इस सिलेक्शन के लिए उपलब्ध रखा था। मुझे बाकी प्लेयरों की तरह नहीं चुना गया जो यह सोच रहे होंगे कि उन्हें देश की ओर से विश्व कप खेलने का मौका मिल सकता है।
ब्रावो ने कहा कि वेस्टइंडीज क्रिकेट में बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो निडरता से भरे डिसिजन लेने में हिचकिचाते हैं। टीम को एक मजबूत नेता की जरूरत है, न ही केवल कप्तान के लिए पब्लिक प्रबंधन के मामले में भी। इसके अलावा सीनियर प्लेयरों के लेवल तक भी सब मजबूत होना चाहिए।
ब्रावो ने इस दौरान टी-20 वल्र्ड कप के लिए अपने साथी कीरोन पोलार्ड को कप्तानी बनाने की सिफारिश भी की। पोलार्ड ने साफ कहा कि पोलार्ड एक अच्छा लीडर है जोकि आगे बढ़कर टीम का नेतृत्व कर सकता है।

बता दें कि विंडीज टीम का पिछला प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। विंडीज टीम अपने आखिरी 22 वनडे मुकाबलों में 13 मुकाबले हारा है। जबकि टी-20 के आखिरी छह मुकाबलों में भी उन्हें हार ही मिली है। 

.
.
.
.
.