Sports

नई दिल्ली : विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) के दौरान दो दोहरे शतक लगने के बाद क्रिकेट फैंस की नजरें इस टूर्नामेंट पर टिक गई हैं। सबसे पहले संजू सैमसन (Sanju Samson) ने गोवा के खिलाफ 212 रन बनाकर सबका ध्यान खींचा था। अब मुंबई के यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने 203 रन बनाकर चर्चा बटोर ली है। आपको बता दें कि भारत की ओर से घरेलू क्रिकेट में अभी भी एक पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भारत के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के नाम पर है। रोहित शर्मा  (Rohit Sharma) ने जो 264 रन बनाए थे वह इंटरनेशनल क्रिकेट में बनाए थे लेकिन घरेलू क्रिकेट में भारत की ओर से शिखर धवन अभी भी 248 रन बनाकर टॉप पर बने हुए हैं। 

शिखर धवन की सबसे बड़ी पारी 

शिखर धवन ने 2013 में दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ प्रिटोरिया (Pretoria) के मैदान पर खेले गए मैच के दौरान शानदार 248 रन बनाए थे। धवन की इस तूफानी पारी का आलम यह था कि उन्होंने अपनी पारी के दौरान 30 चौके और 7 छक्के भी जड़े। 

लिस्ट-ए क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज

Sports, shikhar dhawan photo, shikhar dhawan image, शिखर धवन
264 - रोहित शर्मा (भारत) बनाम श्रीलंका कोलकाता, 2014 में
248 - शिखर धवन (भारत ए) बनाम दक्षिण अफ्रीका ए, प्रिटोरिया, 2013 में
219 - वीरेंद्र सहवाग (भारत) बनाम वेस्टइंडीज इंदौर, 2011 में
212* - संजू सैमसन (केरल) बनाम गोवा अलूर, 2019 में
209- रोहित शर्मा (भारत) बनाम ऑस्ट्रेलिया बैंगलोर, 2013 में
208* - रोहित शर्मा (भारत) बनाम श्रीलंका, मोहाली, 2017
203- यशसवी जायसवाल (मुंबई) बनाम झारखंड, अलूर, 2019
202- 2018 में कर्ण कौशल (उत्तराखंड) बनाम सिक्किम
200 * - सचिन तेंदुलकर (भारत) बनाम दक्षिण अफ्रीका ग्वालियर में, 2010
(बोल्ड अक्षरों में नंबर : इंटरनेशनल दोहरा शतक)

यशस्वी बने दोहरे शतक लगाने वाले सबसे युवा क्रिकेटर

Sports, Yashasvi Jaiswal
17 साल, 292 दिन - यशसवी जायसवाल (मुंबई) बनाम झारखंड, 2019
20 साल 276 दिन - डरबन में 1975 में एलन बैरो (नटाल) बनाम अफ्रीकी एकादश
21 साल 20 दिन - जोहान्सबर्ग, 2019 में एम वैन बुरेन (गौतेंग) बनाम पश्चिमी प्रांत
21 साल 280 दिन - सिडनी, 2015 में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया बनाम ट्रैविस हेड (दक्षिण ऑस्ट्रेलिया)
21 साल 282 दिन - कैंटरबरी, 2016 में बेन डकेट (इंग्लैंड लायंस) बनाम श्रीलंका

.
.
.
.
.