Sports

नई दिल्ली : आरसीबी के खिलाफ मैच में सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर बड़ा स्कोर नहीं कर पाए। उन्हें दूसरे ही ओवर में वाशिंगटन सुंदर ने अपना शिकार बना लिया। मैच दर मैच उनकी कम होती स्ट्राइक रेट पर पूर्व क्रिकेटर अजय जडेजा का कहना है कि निश्चित तौर  पर वार्नर कप्तानी के दबाव में आ गए हैं। इसलिए उनके प्रदर्शन में निरंतरता नहीं दिख रही है। 

जडेजा ने कहा। अगर उनके आंकड़े देखें तो निश्चित तौर पर वह अच्छे हैं। आंकड़े झूठ नहीं बोलते। वह अच्छा प्रदर्शन कर हैं लेकिन बेहतरीन नहीं। पिछले सीजन में उनके बल्ले से लगातार रन निकल रहे थे। लेकिन इस बार ऐसा नहीं होता। एक मैच में वह रन बनाते हैं दूसरे में नहीं। सो, निरंतरता की कमी दिखी है इसी कारण हैदराबाद को प्लेऑफ की रेस के लिए जूझना पड़ रहा है।

जडेजा ने इस दौरान क्रिस गेल की भी उदाहरण दी। उन्होंने कहा- बीते दिन पंजाब के मैच में क्रिस गेल ने 99 रन बनाए। इन रनों के लिए उन्होंने करीब 60 गेंदें खेलीं। अगर हम दस से 15 साल पीछे चले जाएं तो कोई बल्लेबाज अगर 60 गेंद में शतक लगा देता था तो उसे बहुत बड़ा माना जाता था लेकिन आज वह स्थिति नहीं है। कई बल्लेबाज है जोकि शतक लगाने के लिए 60 के करीब ही गेंदें खेलते हैं। गेल ने भी इतनी गेंदें लीं। लेकिन आप डेविड वार्नर को देखेंगे तो वह गेंदें ज्यादा खेल रहे हैं। 

जडेजा ने इस दौरान रिद्धिमन साहा के साथ उनकी शतकीय साझेदारी पर भी बात की। उन्होंने कहा- उक्त मैच में आप देख सकते हैं कि किस तेजी से वार्नर ने अपनी टीम को शुरुआत दी। सभी को लग रहा था कि वार्नर रंग में है। लेकिन उस मैच का एक पक्ष यह भी था कि उसमें किसी ने रिद्धिमन साहा को नोट नहीं किया। वह वार्नर से भी ज्यादा तेज थे। सो, कही न कहीं वार्नर पर कोई दबाव है यह कप्तानी का भी हो सकता है। क्योंकि जब आप कप्तान बन जाते हैं तो आपको कई चीजें सोचनी होती है। अगर आप कप्तान नहीं होते तो आपको फ्रीडम के साथ खेलते हैं। इसी में कई बार बड़ी पारियां निकलकर सामने आती हैं।

.
.
.
.
.