Sports

नई दिल्ली : फैंटेसी क्रिकेट जब से भारत में शुरू हुई है, क्रिकेट फैंस को ज्यादा पैसे कमाने का बड़ा अवसर मिल गया है। इसी प्लेटफॉर्म को कई युवाओं ने अपना करियर संवारने के लिए भी इस्तेमाल किया। इसी क्रम में एक नाम आता है 26 साल के सौरव झा का। जिन्होंने मात्र एक साल में ही फैंटेसी लीग एप ‘प्लेइंग-11’ बनाकर अपने साथ तीन लाख से ज्यादा यूजर्स जोड़ लिए। इस एप से क्रिकेट फैंस 6 हजार से ज्यादा लीग से 30 लाख रुपए से भी ज्यादा पैसे कमा चुके हैं।

एप बनाने का आइडिया कैसे आया। इस पर बात करते हुए सौरव झा ने कहा- मैंने क्रिकेटर बनने के लिए इंजीनियरिंग छोड़ दी और यहां तक कि असम की टीम में सिलेक्ट भी हो गया। क्योंकि मैं अकेला था, इसलिए मैंने फैंटेसी गेम खेलना शुरू कर दिया। तब यह एकमात्र मंच था। 2015 में जब मुझे चोट लग गई तो मैंने फैंटेसी गेम के बारे में सर्च की। इससे मुझे क्रिकेट से जुड़े रहने में भी मदद मिली। यही से बिजनेस का आइडिया आ गया।

सौरव ने कोविड-19 महामारी के दौर में जब कई बिजनेस डूबते नजर आ रहे थे, में मात्र एक साल में अपना बिजनेस खड़ा कर लिया। खास बात यह है कि सौरव के प्लेटफार्म पर 18 से 24 साल के युवा ज्यादा है। सौरव ने कहा- इंडियन प्रीमियर लीग के दौर में उनके पास रिकॉर्ड संख्या में यूजर्स आ रहे हैं। इसकी संख्या रोजाना एक लाख तक जा रही है जबकि रेवेन्यू भी 50 फीसदी बढ़ा है।

सौरव ने बताया कि अभी 80 फीसदी तक यूजर्स क्रिकेट से जुड़े हुए हैं। हमारे प्लेटफॉर्म पर क्रिकेट के अलावा फुटबॉल, बास्केटबॉल लीग के लिए भी जगह है। सौरव ने बताया- रेगुलर क्रिकेट लीग विजेता प्लेयरों की राशि से बतौर फीस 15 से 18 फीसदी राशि काटते हैं जबकि उनके प्लेटफार्म पर यह राशि 8 से 10 फीसदी है।

.
.
.
.
.