Sports

ब्रिसबेन: आॅस्ट्रेलिया टीम ने मैदान पर नरम रवैया दिखाकर अपने पुराने रुख में बदलाव किया है लेकिन भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने कहा कि श्रृंखला का नतीजा क्या होगा यह क्रिकेट का स्तर तय करेगा। आॅस्ट्रेलियाई टीम पिछले कई वर्षों से आक्रामक क्रिकेट खेलती आई है जिसमें छींटाकशी भी शामिल रहती है।
PunjabKesari
इस साल केपटाउन में गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण में स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर पर प्रतिबंध के बाद इस रवैये में बदलाव आया है। आलोचकों ने इस घटना के लिए किसी भी कीमत पर जीत दर्ज करने की मानसिकता को जिम्मेदार ठहराया था। 

शास्त्री बोले- कोई क्या कहे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
cricket team, coach sastri

शास्त्री ने रविवार को यहां दौरे की अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘अंत में आपका क्रिकेट बोलता है। मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि ग्लेन मैकग्रा या शेन वार्न कुछ कहते हैं या नहीं, वे इसके बावजूद विकेट हासिल करते।’ उन्होंने कहा, ‘यह सामान्य सी बात है। आप जिस चीज में अच्छे हो वह काम कर रहे हो और लगातार कर रहे हो तो यह मायने नहीं रखता कि आप किस टीम की ओर से खेल रहे हो।’

कोहली ने कहा- मुझे अपनी क्षमताओं पर पूरा भरोसा 
Sports news, cricket news hindi, virta kholi

कप्तान विराट कोहली ने भी दौरे पर रवाना होने से पूर्व प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि प्रदर्शन करने के लिए उन्हें अपनी क्षमताओं पर भरोसा है और वह अपना उत्साह बढ़ाने के लिए बेकार की शाब्दिक जंग पर निर्भर नहीं हैं। कोहली के चिर परिचित आक्रामक अंदाज के बारे में पूछने पर शास्त्री ने कहा, ‘वह कोहली पेशेवर खिलाड़ी है और परिपक्व हो गया है। आप चार साल पहले 2014-15 उसे देखो तो उसके बाद से वह दुनिया भर में खेला है और टीम की कप्तानी की है। और इस अकेली चीज से ही आपके अंदर जिम्मेदारी आ जाती है।’ 

आॅस्ट्रेलियाई सरजमीं पर कोहली जड़ चुके है पांच शतक
PunjabKesari

कोहली ने आॅस्ट्रेलियाई सरजमीं पर पांच शतक है, जो 2011-12 में एक और 2014-14 में चार लगाए हैं। शास्त्री ने कहा कि आॅस्ट्रेलियाई हालात भारतीय कप्तान की खेल की शैली के अनुकूल हैं। उन्होंने कहा, ‘उसे आॅस्ट्रेलिया आना पसंद है। उसमें अपने खेल को लेकर जुनून है। पिचें उसकी खेल की शैली के अनुकूल हैं। और एक बार आप यहां अच्छा प्रदर्शन कर लो तो आप बार-बार यहां आकर खेलना चाहते हैं। यह क्रिकेट खेलने के लिए शानदार जगह है।’      

.
.
.
.
.