Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : बांग्लादेश दौरे और एसीसी एमर्जिंग कप के लिए इंडिया ए टीम में 20 साल की बल्लेबाज मिन्नु मणि को भी मौका दिया गया है। बाएं हाथ की बल्लेबाज और ऑफ स्पिनर मिन्नु केरन के वायनाड की रहने वाली है और अंडर 23 वनडे चैलेंजर ट्रॉफी में इंडिया ब्लू की ओऱ खेल चुकी हैं। मिन्नु का क्रिकेट सफर किसी चुनौती से कम नहीं रहा है। हालांकि उन्होंने उम्मीद नहीं छोड़ी और इसी का फल है कि उनका आज भारतीय टीम में सिलेक्शन हुआ है। 

लड़कों के साथ खेलती थी क्रिकेट 

मिन्नु के पिता दिहाड़ी मजदूर हैं और उनकी कमाई से मुश्किल से ही घर चलता है। मिन्नु को बचपन से ही क्रिकेट का शौंक था और उन्होंने खेतों में लड़कों के साथ क्रिकेट खेलना शुरू किया। मनथवाड़ी गर्वमेंट वोकेशनल हाई सेकंड्री स्कूल में पढ़ते हुए मिन्नु ने क्रिकेट में रुचि दिखानी शुरु की। 

PunjabKesari

एलसमा अनमोल का जीवन में रहा अहम योगदान 

मिन्नु को फिजिकल एजुकेशन पढ़ाने वाली एलसमा अनमोल बेबी ने उनकी क्रिकेट प्रतिभा को पहचाना और उन्हें छुट्टियों में उन्हें क्रिकेट की ट्रेनिंग देती थी। एक बार एलसमा मिन्नु को तिरुवनंतपुरम में केरल क्रिकेट एसोसिएशन के ओपन ट्रायल में ले कर गईं जहां उनका सेलेक्शन ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए हुआ। यह ट्रायल उनके जीवन में टर्निंग प्वाइट साबित हुआ और इसके बाद ने मिन्नु ने मुड़कर नहीं देखा।

बाढ़ में डूब गया था घर 

पिछले साल केरल में आई बाढ़ की चपेट में उनका भी घर डूब गया था। घर को ठीक करवाने के लिए मिन्नु ने एक क्रिकेट वेबसाइट ने मिन्नु के लिए चंदा इकट्ठा किया और घर ठीक करवाने में मदद की। इन सब के बावजूद मिन्नु ने हार नहीं मानी और क्रिकेट खेलना जारी रखा जिसका फल उन्हें अब मिला है। 

.
.
.
.
.