Sports

लिस्बन : किंग्सले कोमान के एकमात्र महत्वपूर्ण गोल की बदौलत जर्मनी के दिग्गज क्लब बायर्न म्यूनिख ने फ्रांस के क्लब पेरिस सेंट जर्मेन को रविवार को 1-0 से हराकर छठी बार यूएफा चैंपियंस लीग फुटबॉल चैंपियनशिप का खिताब जीत लिया। जर्मन क्लब ने यूरोप की इस शीर्ष प्रतियोगिता में नया इतिहास बनाया। बायर्न म्यूनिख चैंपियंस लीग में पहली ऐसी टीम बन गयी जिसने एक प्रतियोगिता में अपने सभी मैच जीते।

पहला हाफ गोल रहित रहने के बाद मैच के 59 वें मिनट में कोमान ने जोशुआ कीमिच के बेहतरीन क्रॉस पर हैडर से गोल दागा। यह दिलचस्प तथ्य है कि कोमान फ़्रांस के अंतररष्ट्रीय खिलाड़ी हैं। यह गोल बायर्न का प्रतियोगिता में 500वां गोल था और इसके साथ ही बायर्न इस कीर्तिमान पर रियाल मैड्रिड और बार्सीलोना के बाद पहुंचने वाला तीसरा क्लब बन गया। बायर्न की इस जीत को देखने के लिए हालांकि स्टेडियम में दर्शक मौजूद नहीं थे।

कोरोना महामारी के कारण फाइनल दर्शकों के बिना खेला गया था। जर्मन क्लब ने इस तरह दूसरी बार अपने लिए खिताबी हैट्रिक बनाई है। बायर्न ने इससे पहले बुंदेसलीगा और जर्मन कप के खिताब जीते थे। बायर्न के रोबर्ट लेवांडोवस्की 15 गोल के साथ इस सत्र में चैंपियंस लीग के शीर्ष स्कोरर रहे। बायर्न कोच हैंसी फ्लिक के लिए चैंपियंस लीग खिताब बड़ी सफलता है जिन्होंने नवम्बर में बायर्न का कोच पद संभाला था। बायर्न के मिडफील्डर थॉमस म्यूलर ने इस जीत पर ख़ुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह बेहद खुशनुमा अहसास है।

पेरिस सेंट जर्मेन क्लब का यह पहला चैंपियंस लीग फाइनल था। ब्राजील के नेमार जैसे खिलाड़ी की मौजूदगी के बावजूद टीम कामयाब नहीं हो पायी। नेमार ने पहले हाफ के 18वें मिनट में गोल करने का अच्छा मौका गंवाया। इस बीच फ़्रांस की राजधानी पेरिस में प्रशंसकों ने पेरिस सेंट जर्मेन क्लब की हार के बाद हुड़दंग किया जिसके बाद पुलिस ने 83 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस का भी इस्तेमाल किया। भीड़ ने कई बस स्टॉप को क्षतिग्रस्त कर दिया था। 

.
.
.
.
.