Sports

आकलैंड : विश्व कप के अपने इतिहास में एक पारी में 317 रन का सर्वश्रेष्ठ स्कोर खड़ा करने के अगले ही मैच में भारतीय टीम की बल्लेबाज़ी बुरी तरह बिखर गई। इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टीम महज़ 134 रन ही बना पाई। 17 वर्षों में विश्व कप के किसी मुकाबले में यह भारत का सबसे कम स्कोर था। भारतीय टीम इस समय विश्व कप से बाहर होने की दहलीज पर खड़ी है, जिसकी सबसे बड़ी वजह टीम की लचर बल्लेबाज़ी को माना जा रहा है। हालांकि शनिवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाले महत्वपूर्ण मुकाबले से पहले टीम की सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधना को यह विश्वास है कि भारतीय बल्लेबाज़ इस मैच में जरुर अपनी लय में लौट आएंगी। 

भारतीय बल्लेबाजों की खराब बल्लेबाजी को लेकर स्मृति ने कहा कि जब आप भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हों, तब किसी तरह के स्पष्टीकरण की गुंजाइश नहीं होती। उन्होंने बल्लेबाजों का बचाव भी किया और कहा कि भारतीय बल्लेबाजों को एक परफेक्ट पारी की जरूरत है। स्मृति ने पिछले महीने न्यूज़ीलैंड के खिलाफ सीरीज में टीम की शानदार बल्लेबाजी का उदाहरण देते हुए कहा, 'पिछली सीरीज़ में हमारे बल्लेबाजों ने काफी अच्छी बल्लेबाजी की थी और स्कोरबोर्ड पर लगातार अच्छे स्कोर खड़े किए थे। हां, पिछले चार मुकोंबलों में प्रदर्शन उम्मीदानुसार नहीं रहा, जिस पर हमें काम करने की जरूरत है।' 

स्मृति को उम्मीद है कि शनिवार का मुकाबला भारतीय बल्लेबाजों के लिए परफेक्ट मैच होगा। उन्होंने भारतीय गेंदबाजों की तारीफ़ करते हुए कहा कि गेंदबाजों ने अब तक बढ़िया गेंदबाजी की है और मैच को जीत में तब्दील करने के लिए उन्हें बल्लेबाज़ों से थोड़े सहयोग की दरकार है। विश्व कप में अब तक भारतीय बल्लेबाजी के दौरान एक समूह में विकेटों का गिरना परेशानी का सबसे बड़ा सबब रहा है। कप्तान मिताली राज की तरह स्मृति ने भी सेट बल्लेबाजों को अपनी पारी को बड़े स्कोर में तब्दील करने पर जोर दिया। 

स्मृति ने कहा, 'हम एक के बाद एक लगातार विकेट गंवा रहे हैं और इस पर हमें काम करने की बेहद जरूरत है। 50 ओवरों के खेल में साझेदारियों की महत्ता अधिक होती है। एक बार जब कोई बल्लेबाज क्रीज पर जम जाता है, तो उस पर खेल को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी होती है। यह एक ऐसी कड़ी है जिसको लेकर मैं खुद भी सचेत रहूंगी कि हम लगातार विकेट ना गंवाए। साथ ही एक या दो अच्छी साझेदारी टीम को सम्मानजनक तक पहुंचा सकती है।' 

टूर्नामेंट के पहले मुक़ाबले में 40 रन बनाने के बाद रनों की तलाश कर रहीं टीम की हरफनमौला खिलाड़ी दीप्ति शर्मा का भी स्मृति ने बचाव किया। उन्होंने कहा कि भले ही पिछले तीन मैचों में दीप्ति अपने बल्ले से कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई हों लेकिन उन्हें पूरा विश्वास है कि वह एक अच्छे स्कोर से बस एक पारी दूर हैं। ईडन पार्क में बारिश होने की संभावना को लेकर भी स्मृति ने कहा कि खेलते समय भारतीय टीम के ज़हन में यह बात भी दर्ज रहेगी। 

स्मृति ने खिलाड़ियों पर विश्वास जताते हुए कहा कि हमारे सभी खिलाड़ी परस्थितियों के हिसाब से खुद को ढालने में सक्षम हैं। उनके अनुसार, 'हमारे बल्लेबाज जरूरत पड़ने पर आक्रामक और रक्षात्मक - दोनों ही क्रिकेट खेलने में सक्षम हैं और यही बात गेंदबाजों के साथ भी है।' ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध अगर भारत को हार मिलती है तो यह उसके लिए सेमीफाइनल की राह को और कठिन कर देगी। मैच अगर बारिश के कारण रद्द होता है, तो अंक तालिका में ऑस्ट्रेलिया और भारतीय टीम क्रमश: पहले और पांचवें पायदान पर बनी रहेगी। 

.
.
.
.
.