Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : एशेज सीरीज के पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में पिछड़ने के बाद आस्ट्रेलियाई टीम वापस ट्रैक पर आई और टीम ने 7 विकेट के नुकसान पर 487 रन पर अपनी दूसरी पारी घोषित की। इस दौरान यहां बॉल टेंपरिंग के कारण एक साल के बैन से लौटे स्टीव स्मिथ ने एशेज में दूसरा शतक लगाया। वहीं एक अन्य खिलाड़ी मेथ्यू वेड जिनपर ज्यादा लोगों का ध्यान नहीं गया उन्होंने दूसरी पारी के दौरान शतक लगा। लगभग छह साल बाद शतक लगाने वाले वेड बलर ब्लाइंडनेस के शिकार हैं और उन्हें रंग ठीक से दिखाई नहीं देते।

PunjabKesari

पहली पारी में मात्र एक रन पर आउट होने वाले वेड ने दूसरी बार मौका मिलने पर इसे ऐसे ही हाथ से जाने नहीं दिया और ताबड़तोड़ बल्‍लेबाजी करते हुए 110 रन बना दिए। इस दौरान वेड ने 17 चौके भी लगाए। एशेज में चुने जाने से पहले उन्होंने अपना पिछला टेस्ट मैच दो साल पहले सितंबर 2017 में बांग्लादेश के खिलाफ खेला था जबकि पिछली बार उन्होंने 2012 में कैरेबियाई टीम के खिलाफ शतकीय पारी खेली थी।

PunjabKesari

16 साल की उम्र में हुआ था कैंसर

इस ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी के लिए एशेज तक का सफर मुश्किल भरा रहा है। 16 साल की उम्र में वेग को कैंसर हो गया था। कीमोथैरेपी के दो राउंड लेने और लंबे समय तक चले इलाज के बाद वह इस बीमारी से बाहर निकले। हालांकि मुश्किलों ने यहां भी उनका साथ ही छोड़ा और वह कलर ब्लाइंडनेस का शिकार हो गए और मैदान में गेंद के रंग के कारण समस्या भी होती है। इन सब के बावजूद 2012 में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में कदम रखने वाले वेड ने 22 मैच खेले और अपनी पारी से चयनकर्ताओं की नजरों में आ गए और अब मशहूर टेस्ट सीरीज एशेज का हिस्सा हैं। 

.
.
.
.
.