Sports

पटियाला/बारन (इंद्र) : जिंदगी में कुछ करने का इरादा पक्का हो तो किसी भी मंजिल को हासिल किया जा सकता है। इसकी मिसाल एक बार फिर 103 वर्षीय धावक माता मान कौर (4) और उनके सपुत्र 82 वर्षीय गुरदेव सिंह (3) ने मलेशिया में हुई 21वीं एशिया मास्टर एथलैटिक्स चैम्पियनशिप-2019 (ए.एम.ए.सी.) में 7 मैडल जीतकर पेश की और नया रिकॉर्ड बना दिया। 

PunjabKesari

माता मान कौर ने 100, 200 मीटर में 2 गोल्ड, जैवलिन थ्रो में एक गोल्ड, शॉटपुट में गोल्ड जीते। गुरदेव सिंह ने 100, 200 मीटर दौड़ में 2 सिल्वर और अरले टीम में गोल्ड मैडल जीत कर सचमुच में एक महान उपलब्धि हासिल की है। धावक मान कौर के कोच और सपुत्र गुरदेव सिंह ने बताया कि एशिया एथलैटिक्स चैम्पियनशिप में 35 साल की उम्र से अधिक के 29 देशों के 2500 के करीब कॉमनवैल्थ एशिया खेलें खिलाडिय़ों ने भाग लिया। दौड़ों में माता मान कौर ने 2 गोल्ड मैडल जीत कर अपने पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। 

PunjabKesari

93 साल की उम्र में मान कौर ने दौडऩा शुरू किया 

मान कौर ने उस उम्र में दौडऩा शुरू किया, जिस उम्र में लोगों के घुटने साथ छोड़ जाते हैं। एथलैटिक मान कौर के सपुत्र गुरदेव सिंह ने बताया कि माता मान कौर ने 93 साल की उम्र में दौडऩा शुरू किया। अब तक वह 90 के करीब गोल्ड मैडल दौड़ों, जैवलिन थ्रो और शॉटपुट में जीत दर्ज कर चुकी हैं। वह 6 विश्व रिकॉर्ड भी अपने नाम कर चुकी हैं और विश्व की 10 प्रसिद्ध सिख प्रभावशाली महिलाओं में अपना नाम दर्ज करवा चुकी हैं। 2 दर्जन से ज्यादा देशों की मास्टर गेमों में भाग ले चुकी हैं। 

.
.
.
.
.