Sports
चेन्नई, सात दिसंबर (भाषा) अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) के महासचिव कुशाल दास ने गुरुवार को कहा कि इस अभूतपूर्व समय में आईलीग के आयोजन के लिए सभी हितधारकों के काफी प्रयासों की जरूरत पड़ी।


दास ने कोलकाता में नौ जनवरी से शुरू हो रही आईलीग से पहले आनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘यह अभूतपूर्व समय है और हम फुटबॉल की वापसी कराने में सफल रहे जिसके लिए इससे जुड़े सभी हितधारकों के काफी प्रयास लगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमें खुद की पीठ थपथपानी होगी कि किसी अन्य महासंघ से पहले हम भारत में फुटबॉल लीग शुरू करने में सफल रहे। हम मनोरंजक और प्रतिस्पर्धी लीग को लेकर उत्सुक हैं।’’

आईलीग 2020-21 में पदार्पण कर रही तीन टीमों सहित कुल 11 टीमें खिताब के लिए चुनौती पेश करेंगी और इस दौरान 160 से अधिक मुकाबले खेले जाएंगे।


इन 11 टीमों को कोलकाता के दो अलग-अलग होटलों में रखा गया है जबकि मैच अधिकारी अन्य होटल में हैं। खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों के होटल में पहुंचने से पहले उनके तीन आरटी-पीसीआर परीक्षण किए गए और फिर सात दिन के अनिवार्य पृथकवास से गुजरना पड़ा।


सात दिवसीय पृथकवास के दौरान खिलाड़ियों के दो और परीक्षण हुए और सभी पांच कोविड परीक्षण नेगेटिव आने के बाद खिलाड़ियों और अधिकारियों को ट्रेनिंग की स्वीकृति दी गई।


एआईएफएफ लीग के सीईओ सुनंदो धर ने कहा कि आईलीग क्वालीफायर को सफल बनाने में काफी योजनाएं बनानी पड़ी।


धर ने कहा, ‘‘2020 में बिना किसी समस्या के आईलीग क्वालीफायर को सफल बनाने के लिए काफी योजना बनानी पड़ी। हमें विभिन्न मैदानी हकीकत का सामना करना पड़ा और पर्दे के पीछे काफी काम किया गया।’’



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।
.
.
.
.
.