Sports

नई दिल्ली : चोटी के पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी कृष्ण नागर को तोक्यो 2020 पैरालंपिक के लिये क्वालीफाई करने पर गर्व है और वह 24 अगस्त से पांच सितंबर के बीच होने वाले खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर इसे यादगार बनाना चाहते हैं। नागर (एसएच 6) के अलावा प्रमोद भगत (एसएल 3) और तरुण ढिल्लौं (एसएल 4) को तोक्यो 2020 पैरा खेलों में भाग लेने के लिये विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) से आधिकारिक न्योता मिला है। 

एसएल 3 निचले अंगों की सामान्य दुर्बलता तो एसएल 4 निचले अंगों की गंभीर दुर्बलता को दर्शाता है। एसएच 6 छोटे कद के संदर्भ में उपयोग किया जाता है। भारतीय पैरालंपिक समिति के अनुसार नागर ने कहा, 'यह मेरे लिए गौरवशाली क्षण है कि मैं तब पैरालंपिक खेलों का हिस्सा बनूंगा जबकि पैरा बैडमिंटन इसमें पदार्पण करेगा। मैं स्वर्ण पदक जीतकर इसे यादगार बनाने की कोशिश करूंगा। मेरा एकमात्र लक्ष्य पहला स्थान हासिल करना है।' इन तीनों खिलाड़ियों ने बीडब्ल्यूएफ की अपनी ​वर्तमान विश्व रैंकिंग के आधार पर तोक्यो ओलंपिक में जगह बनाई। 

नागर ने कहा, 'कोविड-19 महामारी विश्व में चिंता और संकट बढ़ा रही है ऐसे में मुझे उम्मीद है कि तोक्यो 2020 में पदक से हमारे देशवासियों को कुछ खुशी मिलेगी। यह भावी पैरा खिलाड़ियों के लिये भी प्रेरणा का काम करेगा।' राजस्थान के 21 वर्षीय नागर ने अप्रैल में दुबई में पैरा बैडमिंटन अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में दो स्वर्ण पदक जीते थे। 

.
.
.
.
.