Sports

गुवाहाटी : टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने कहा कि वह 2024 में होने वाले पेरिस खेलों में स्वर्ण पदक के साथ देश लौटेंगी। असम सरकार द्वारा यहां आयोजित एक सम्मान समारोह के दौरान 23 वर्षीय ओलंपियन ने कहा, 'मैं लोगों से मुझे माफ करने की अपील करतr हूं क्योंकि मैं (टोक्यो ओलंपिक से) स्वर्ण पदक लेकर घर नहीं लौट सकr। लेकिन मुझे खुशी है कि मुझे देश के लिए मेडल (कांस्य) मिला है।' 

लवलीना ने कहा कि उन्होंने टोक्यो में पदक जीतने के बारे में कभी नहीं सोचा था, लेकिन लोगों और भगवान के आशीर्वाद ने उन्हें बहुत ताकत दी। इस मुक्केबाज ने आगे कहा, यह संघर्षों से भरी एक लंबी यात्रा थी जो गोलाघाट जिले के एक साधारण बारो मुखिया गांव से शुरू हुई थी। मैं यात्रा से कभी नहीं भागी, हालांकि यह हमेशा चुनौतीपूर्ण था। मैं अपने माता-पिता और अपने कोचों को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देती हूं। मैं यह नहीं कर सकती कि उनके समर्थन के बिना यह सफलता हासिल की। 

लंदन ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज एम.सी. मैरी कॉम और टोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता भारोत्तोलक मीराबाई चानू दोनों मणिपुर से हैं। लवलीना ने कहा, असम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है, लेकिन जो जरूरी है। उन्होंने कहा, हमारे गांवों में बहुत प्रतिभा है। उन्हें यह महसूस करना चाहिए कि वे खेल के माध्यम से अपना करियर बना सकते हैं। माता-पिता और अभिभावकों को अपने बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए ताकि वे पूरी ईमानदारी और समर्पण के साथ खेलों में भाग ले सकें। 

लवलीना ने कहा, 'अगर हम खेलों को अपना करियर बना लें तो हम जीवन भर खुश रह सकते हैं।' असम सरकार ने लवलीना को पुलिस उपाधीक्षक पद के साथ-साथ 1 करोड़ रुपए के नकद इनाम की पेशकश की है। राज्य सरकार ने यह भी घोषणा की है कि गुवाहाटी में एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखा जाएगा और 25 करोड़ रुपए की लागत से उनके विधानसभा क्षेत्र सरूपथर में एक खेल परिसर बनाया जाएगा। 

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने गुवाहाटी के श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र में सम्मान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए घोषणा की कि राज्य सरकार अगले ओलंपिक तक मुक्केबाज को हर महीने 1 लाख रुपए देगी ताकि वह अच्छी तैयारी कर सके। उन्होंने कहा कि विश्व स्तर के मुक्केबाज के रूप में लोविलिना के विकास में मदद करने वाले पांच कोचों को उनके योगदान के लिए 10-10 लाख रुपए दिए जाएंगे। सरमा ने कहा, लवलीना की सफलता ने हर असमिया को गौरवान्वित किया है। 

.
.
.
.
.