Sports

न्यूयार्क : बुल्गारिया के ग्रिगोर दिमित्रोव ने 20 बार के ग्रैंडस्लैम चैम्पियन रोजर फेडरर को हराकर उलटफेर करते हुए अमेरिकी ओपन के सेमीफाइनल में प्रवेश किया जहां उनका सामना दानिल मेदवेदेव से होगा। इस तरह 28 साल में पहली बार निचली रैंकिंग पर काबिज खिलाड़ी सेमीफाइनल में पहुंचा है। 78वीं रैंकिंग के दिमित्रोव ने मंगलवार को शानदार वापसी करते हुए स्विट्जरलैंड के तीसरे वरीय फेडरर को तीन घंटे 12 मिनट तक चले मुकाबले में 3-6 6-4 3-6 6-4 6-2 से शिकस्त दी और अब शुक्रवार को सेमीफाइनल में उनका सामना रूस के पांचवें वरीय मेदवेदेव से होगा।

पांच बार के अमेरिकी ओपन चैम्पियन फेडरर ने 2008 के बाद से फ्लशिंग मिडोज में जीत हासिल नहीं कर सके हैं। उन्होंने पहला सेट 29 मिनट में जीत लिया था लेकिन दिमित्रोव ने दूसरे सेट को अपने नाम कर बराबरी हासिल की। फेडरर इसके बाद फिर अगले सेट को जीतकर आगे हो गये लेकिन दिमित्रोव ने चौथा और पांचवां सेट हथिया कर उलटफेर किया। पांचवें सेट में दिमित्रोव ने 4-0 की बढ़त बनाने के दौरान दो बार फेडरर की सर्विस तोड़ी और 6-2 से जीत लिया। मैच के दौरान फेडरर को गर्दन के करीब पीठ के उपचार के लिये मेडिकल टाइमआउट भी लेना पड़ा। दिमित्रोव ने कहा, ‘‘यह पांच सेट का अच्छा मुकाबला था। कुछ भी हो सकता था।'

अमेरिकी ओपन में पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचने वाले दिमित्रोव ने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं। मैं अपने आप से यही कह रहा था कि मैं मैच में बना रहूं।' वह अपने कैरियर स्लैम में यहां तक केवल 2014 विम्बलडन और 2017 आस्ट्रेलियाई ओपन में पहुंचे थे। उनसे पहले 174वीं रैंकिंग के जिम्मी कोनोर्स ही न्यूयार्क में 1991 में क्वार्टरफाइनल तक पहुंचे थे। तेईस वर्षीय मेदवेदेव ने तीन बार के ग्रैंडस्लैम चैम्पियन स्टान वावरिंका को 7-6 6-3 3-6 6-1 से मात देकर पहले मेजर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। मेदवेदेव अगस्त में तीन एटीपी फाइनल में पहुंचने के बाद यहां पहुंचे जिसमें से उन्होंने सिनसिनाटी में खिताब जीता था और वह मांट्रियल और वाशिंगटन में उप विजेता रहे थे। बुधवार को होने वाले क्वार्टरफाइनल में स्पेन के दूसरे वरीय और 18 बार के ग्रैंडस्लैम चैम्पियन राफेल नडाल का सामना अर्जेंटीना के 20वें वरीय डिएगो श्वाट्र्जमैन से होगा जबकि फ्रांस के 13वें वरीय गेल मोफिंल्स की भिड़ंत इटली के 24वें वरीय माटियो बेरेटिनी से होगी। 

.
.
.
.
.