Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : भारत में आज (15 अगस्त) स्वतंत्रता दिवस के साथ-साथ रक्षाबंधन का त्यौहार भी मनाया जा रहा है। इस खास दिन के मौके पर आज हम आपको कुछ भारतीय क्रिकेटरों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके करियर के पीछे उनकी बहनों का खास योगदान रहा है और इसमें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से लेकर कई मशहूर खिलाड़ियों का नाम शामिल है। आइए जानते हैं इनके बारे में - 

PunjabKesari

सचिन तेंदुलकर और सविता

सचिन तेंदुलकर के पिता रमेश तेंदुलकर की पहली पत्नी की बेटी और सचिन की सौतेली बहन सविता दोनों एक दूसरे से बेहद प्यार करते हैं और अपनी सफलता के बारे में बात करते हुए कई बार वह सविता का नाम ले चुके हैं और उन्हें श्रेय भी देते रहे हैं। संन्यास के दौरान भी सचिन ने अपने भाषण में कहा था कि उन्हें पहला कश्मीरी विलो क्रिकेट बैट उनकी बहन ने ही गिफ्ट किया था। 

PunjabKesari

रविन्द्र जडेजा और नैना जडेजा

भारतीय क्रिकेट टीम के प्रमुख ऑलराउंडर रविन्द्र जडेजा बहुत छोटे थे जब उनकी मां का निधन हो गया था। इसके बाद उनकी बहन नैना परिवार की मदद करने के लिए नर्स बनी और जडेजा के क्रिकेटर बनने के सपने को पूरा करने में बड़ी भूमिका निभाई और इस सफर के हर उतार चढ़ाव मे अपने भाई का साथ दिया। 

PunjabKesari

गौतम गंभीर और एकता गंभीर

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और मौजूदा भाजपा सांसद गंभीर अपनी बहन एकता के काफी करीब हैं। जब भी वह मुश्किल में होते हैं तो वह सबसे पहले अपनी बहन से ही सलाह-मशवरा करते हैं। दोनों में कितना प्यार है इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बहन की शादी के वक्त उन्हें श्रीलंका जाना था लेकिन उन्होंने इस दौरे से अपना नाम वापस ले लिया था। 

PunjabKesari

भुवनेश्वर कुमार और रेखा अधना

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को क्रिकेटर बनाने में उनकी बहन रेखा अधना ने खासा योगदान दिया है। भुवी को पहली बार क्रिकेट कोच के पास लेकर जाने वाली उनकी बहन रेखा ही थी। घरेलू मुकाबले में सचिन को 0 पर आउट कर अपनी पहचान बनाने वाले भुवनेश्वर ने 2012 में भारत के लिए अपना पहला मैच खेला था। 

PunjabKesari

हरभजन सिंह और 5 बहनें

हरभजन सिंह के बारे में आज पूरी दुनिया जानती हैं। लेकिन आज ये नहीं जानते होंगी कि उनको एक सफल ऑफ स्पिन गेंदबाज बनाने में उनकी बहनों की भुमिका खास रही है। भज्जी को जब भारतीय टीम से बाहर किया गया था तो वह क्रिकेट छोड़कर ट्रक  ड्राइवर बनने का फैसला कर चुके थे लेकिन बहनों के समझाने पर ही वह वापस क्रिकेट के मैदान में लौटे। उनकी 5 बहनों में 4 उनसे बड़ी जबकि एक छोटी बहन है। 

.
.
.
.
.