Sports

बेंगलुरु : भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम की स्ट्राइकर संगीता कुमारी ने हाल ही में संपन्न चिली दौरे को लेकर कहा कि हमने चिली दौरे के लिए कड़ी मेहनत की थी और हमें इसका परिणाम दिखा। संगीता ने चिली की टीम के खिलाफ खेले पांच मैचों में चार गोल के बारे में कहा कि टीम की सफलता में योगदान देना बहुत अच्छा अनुभव था। 2019 में घुटने की चोट और कोरोना महामारी से बने हालात के कारण लंबे अंतराल के बाद हॉकी खेलने का मौका मिला। इतने लंबे समय बाद वापस आना और टीम की जीत के लिए योगदान करना बहुत अच्छा था। 

कोचिंग स्टाफ और टीम के सभी साथियों को सहयोग और भरोसा जताने के लिए धन्यवाद, जिसने मुझे मेरे लक्ष्य को पूरा करने में मदद की। संगीता ने चिली दौरे पर छह में से पांच मैच जीतने में टीम की भूमिका पर टिप्पणी करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के कारण 2020 में कोई प्रतिस्पर्धा न होने के बावजूद हमने चिली में सच में अच्छा प्रदर्शन किया। हमने दौरे के लिए कड़ी मेहनत की थी, जिसका फल हमें मिला। मुझे लगता है कि मेरे लिए 2019 में झारखंड की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर जीतना संतोषजनक जीत थी और यह मेरे लिए बहुत बड़ा पल था।

इस उपलब्धि के बाद जूनियर महिला राष्ट्रीय कोचिंग कैंप के लिए बुलाया गया। तब से मेरा सफर शानदार रहा है और मैं अपने खेल में सुधार लाने के लिए कड़ी मेहनत कर रही हूं। संगीता ने कहा कि हम इस सप्ताह भारतीय खेल प्राधिकरण में अपना प्रशिक्षण शुरू करेंगे और मुझे निश्चित रूप से लगता है कि चिली दौरे से हमारा आत्मविश्वास बढ़ा है। उम्मीद है कि हम कैंप और साथ ही साथ जूनियर महिला एशिया कप में भी इसी तरह के फॉर्म को जारी रखेंगे।

.
.
.
.
.