Sports

खेल डैस्क : आईपीएल 2022 के फाइनल मुकाबले के लिए राजस्थान रॉयल्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की टीमें अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में आमने-सामने होंगी। दोनों टीमों के लिए यह मुकाबला अहम होगा। राजस्थान की ओर से संजू सैमसन तो बेंगलुरु की ओर से फाफ डु प्लेसिस अपनी टीमों का प्रतिनिधित्व करेंगे। महत्वपूर्ण मुकाले से पहले जानें मैच के चार जरूरी फैक्ट्स।

अहमदाबाद का मैदान
मुकाबला अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में होना है। यहां 2021 से पहले बल्लेबाजी करने वाली टीमों ने छह गेम जीते हैं और दूसरे बल्लेबाजी करने वाली टीमों ने 11 गेम जीते हैं। ऐसे में टॉस अहम होगा। स्टेडियम बड़ा है ऐसे में दोनों टीमों के प्लेयर्स को सिक्स लगाने के लिए मेहनत करनी होगी। 

चहल से बचकर रहना होगा

Rajasthan vs Bangalore, RCB vs RR, IPL 2022, IPL news in hindi, sports news, राजस्थान बनाम बैंगलोर, आरसीबी बनाम आरआर, आईपीएल 2022, आईपीएल समाचार हिंदी में, खेल समाचार
राजस्थान की सबसे बड़ी ताकत स्पिनर युजी चहल है। युजी ने बेंगलुरु के फिनिशर दिनेश कार्तिक को पिछले 10 पारियों में तीन बार आऊ किया है। कार्तिक भी युजी के खिलाफ 12 की औसत से ही रन बना पाए हैं। युजी वैसे भी सीजन के लीडिंग विकेटटेकर हैं। ऐसे में बेंगलुरु के बल्लेबाजों को उन्हें संभलकर खेलना होगा। 

प्रसिद्ध कृष्णा न बन जाएं कमजोरी

Rajasthan vs Bangalore, RCB vs RR, IPL 2022, IPL news in hindi, sports news, राजस्थान बनाम बैंगलोर, आरसीबी बनाम आरआर, आईपीएल 2022, आईपीएल समाचार हिंदी में, खेल समाचार
प्रसिद्ध कृष्णा के लिए सीजन की शुरूआत अच्छी रही थी। उन्होंने 145 किमी. प्रति घंटा की रफ्तार से गेंदें फेंकी थीं। उन्होंने पहले 8 मैचों में 7.8 की इकॉनमी रेट से 10 विकेट लिए थे। लेकिन इसके बाद सात मैचों में वह 5 ही विकेट ले पाए हैं। उनकी इकॉनोमी रेट भी 9 तक रही है। राजस्थान के लिए जहां युजी चहल मजबूत तो कृष्णा कमजोर कड़ी है। कप्तान संजू सैमसन के लिए बैलेंस बनाना बड़ी चुनौती होगी। 

स्पिनर्स का मुकाबला
अगर सीजन की बात की जाए तो यह दोनों टीमों के स्पिनर्स के बीच सर्वश्रेष्ठ मुकाबला हो सकता है। रॉयल्स के स्पिनरों ने अभी तक सीजन में 38 तो आरसीबी के स्पिनर्स ने 35 विकेट लिए हैं। रॉयल्स की ओर से युजी के साथ अश्विन अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं तो वहीं, बेंगलुरु के लिए हसरंगा शानदार काम कर रहे हैं।

.
.
.
.
.