Sports

स्पोर्ट्स डेस्कः 46 वर्षीय जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद पूरा अमेरिका विरोध की आग में जल रहा है। लोग सड़कों पर उतर आए हैं। पुलिस और सरकार पर अश्वेत विरोधी होने का आरोप लगाया जा रहा है। 25 मई को मिनियापोलिस से शुरू हुआ यह विरोध प्रदर्शन यूएसए समेत दुनियाभर में फैल चुका है। हर क्षेत्र की बड़ी हस्तियां खुलकर सामने आ रहीं हैं। इस बीच कैरेबियाई क्रिकेटर क्रिस गेल ने भी अपनी बात रखी है।
PunjabKesari
क्रिस गेल ने सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम पर स्टोरी शेयर की। इस स्टोरी पर उन्होंने लिखा,'किसी अन्य की तरह अश्वेत लोगों की जिंदगी भी मायने रखती है। नस्लवादी लोगों को शर्म आनी चाहिए। मैंने दुनिया की यात्रा की है और खुद के लिए भी नस्लीय टिप्पणी का अनुभव किया है क्योंकि मैं अश्वेत हूं। सिर्फ फुटबॉल में रंगभेद नहीं होता बल्कि क्रिकेट भी इससे अछूता नहीं। यहां तक की अश्वेत होने पर टीमों में भी है। मुझे इस छड़ी का अंतिम सिरा मिल गया है। अश्वेत और शक्तिशाली। अश्वेत और गर्व।'

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि जॉर्ज फ्लॉयड की गर्दन पर घुटना रखने से उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है। वहीं उसी पुलिस अधिकारी ने अपना दूसरा पैर जॉर्ज की कमर पर रखा था, जहां उनके दोनों हाथ बंधे हुए थे। जॉर्ज बार-बार कहता रहा कि मुझे मत मारो, लेकिन जब तक उसकी आंखें बंद नहीं हुई और शरीर में हल्कापन नहीं आया, तब तक पुलिस ऑफिसर ने एक न सुनी। बता दें अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से पूरे अमेरिका में जबरदस्त रोष है और यहां इस हत्या के विरोध में होने वाले प्रदर्शनों में तेजी आ रही है। 

.
.
.
.
.