Sports

न्यूयॉर्क: अमेरिका के पूर्व स्टार बॉक्सर माइक टायसन ने महज 20 साल में ही हैवीवेट बॉक्सिंग चैम्पियन का वल्र्ड रिकॉर्ड बनाने वाले पहले बॉक्सर हैं। माइक टायसन को दुनिया का सबसे खूंखार बॉक्सर माना जाता है।  वह रिंग में आते थे तो उनकी एक नजर भर  देखने से विरोधी कमजोर पड़ा जाता था टायसन की जिंदगी बेहद ही विवादों में रही। उन्होंने 2013 में अपनी ऑटोबायोग्राफी में यह खुलासा किया कि उनकी मां ने ही उन्हें ड्रग्स की लत लगाई थी। टाइगर को पालतू बनाने के चक्कर में वे करोड़पति से रोड़पति बन गए थे। 

PunjabKesari

2000 में शोहरत टायसन के सिर चढ़कर बोल रही थी। उन्होंने अपनी मैनेजमेंट टीम के सभी पुराने सदस्यों को नौकरी से बर्खास्त कर नए लोगों को रखा था। टायसन के नए अकाउंटेंट ने अपने स्टेटमेंट में दिखाया था कि टायसन के पास केवल 3.3 मिलियन डॉलर हैं। असलियत में उनके पास 65.7 मिलियन डॉलर (लगभग 400 करोड़ रुपए) थे। इस घपले से पर्दा उठाते हुए उन्होंने बताया, "मेरे पास 65.7 मिलियन डॉलर ही थे। दिक्कत यह थी कि मैंने उस साल 62 मिलियन डॉलर खर्च कर दिए थे, जिसमें से 2.1 मिलियन सिर्फ आलीशान कार खरीदने में गए थे।"

PunjabKesari

माइक टायसन महज दो साल के थे जब उनके पिता जिमी किर्कपैट्रिक उनकी मां और दो भाई-बहनों को छोड़कर चले गए थे। अपना और परिवार का पेट पालने के लिए उनकी मां वेश्यालय चलाती थीं। टायसन ने अपनी बायोग्राफी में लिखा है कि उनकी मां लॉरना उबलते हुए पानी से भरा कप अपने ब्वॉयफ्रेंड के मुंह पर फेंक देती थीं। ऐसे झगड़ों के बावजूद वे जल्दी ही अपने ब्वॉयफ्रेंड से दोबारा दोस्ती भी कर लेती थीं। बचपन में जब माइक को नींद नहीं आती थी तो उनकी मां उन्हें शराब और ड्रग्स देती थीं। इससे वे बिना उन्हें तंग किए आराम से सो जाते थे। यहीं से उन्हें ड्रग्स की लत लगी। टायसन ने अपने करियर में 300 मिलियन डॉलर की प्रॉपर्टी खड़ी की थी, लेकिन बुरी आदतों के कारण उन्होंने सबकुछ गंवा दिया। 

.
.
.
.
.