Sports

बेंगलुरु : कोविड-19 महामारी के कारण लगे प्रतिबंधों से अभ्यास पर पड़े प्रभाव के बीच भारतीय पुरूष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह तथा कोच ग्राहम रीड ने कहा कि लॉकडाउन से पहले के फिटनेस स्तर को हासिल करने के लिए खिलाडिय़ों को धीरे-धीरे प्रगति करनी होगी। मनप्रीत सहित टीम के छह खिलाड़ी राष्ट्रीय शिविर के लिए यहां पहुंचने के बाद कोरोना वायरस जांच में पॉजिटिव पाए गए थे। ये सभी खिलाड़ी हालांकि इस बीमारी से उबर गए है और उन्होंने अपना व्यक्तिगत अभ्यास सत्र शुरू कर दिया है। 

मनप्रीत ने कहा- हमने धीरे-धीरे खेल में वापसी की प्रक्रिया शुरू की है। कोचों ने एक योजना बनाई है ताकि हम चरणबद्ध तरीके से पूरी तरह लय हासिल कर सकें। मैं फिर से अभ्यास के लिए वापस आकर वास्तव में खुश हूं। रीड ने कहा कि कौशल प्रशिक्षण खासकर बुनियादी व्यक्तिगत जरूरी चीजों पर ध्यान दिया जा रहा है। इससे खिलाडिय़ों को छोटे समूहों में अभ्यास करने की सहूलियत होती है, जिसमें पर्याप्त सामाजिक दूरी होती है।

कोच ने कहा- हम अगले शिविर के आखिर तक दल के अधिकांश खिलाडिय़ों के अभ्यास के दौरान कार्यभार और तीव्रता को चरणबद्ध तरीके से उस स्तर तक बढ़ा सकते हैं जो कोविड-19 के कारण आयी रूकावट से पहले था। उन्होंने कहा- यह एक धीमी और जानबूझकर की गई प्रक्रिया है। जिसे इस तरह से तैयार किया गया है कि चोट के जोखिम कम हो और अधिकतम लाभ मिल सके।

भारतीय खेल प्राधिकरण साइ के बेंगलुरु केन्द्र में खिलाड़ी सुरक्षा प्रोटोकॉल उसे खुश है। महिला टीम की कप्तान रानी रामपाल ने कहा- यह अच्छा लगता है कि हमने इतने लंबे समय के बाद अभ्यास शुरू किया है। हम धीरे-धीरे अपने शरीर को उसी स्तर पर वापस ला रहे हैं जो हमें पहले की तरह ट्रेनिंग करने की अनुमति देता है। उन्होंने कहा- उम्मीद है कि अगले कुछ महीने में हम पहले की तरह लय हासिल कर लेंगे। फिलहाल, यह महत्वपूर्ण है कि हम सभी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने आप को सुरक्षित रखें और उसके तहत अभ्यास करें।

.
.
.
.
.