Sports

कोलकाता : अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) कोविड-19 महामारी के मद्देनजर शनिवार से यहां शुरू हो रहे आई-लीग के सुचारू और सुरक्षित संचालन को सुनिश्चित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। एआईएफएफ के पास पिछले साल अक्टूबर में आई-लीग क्वालिफायर के दौरान जैव-सुरक्षित महौल में मैच कराने का अनुभव है। वह प्रतियोगिता हालांकि छोटे स्तर पर सिर्फ पांच टीमों के बीच थी। आई-लीग में 11 टीमें हैं और टूर्नामेंट के सभी मैचों को दर्शकों के बिना कोलकाता और कल्याणी के चार स्थलों पर खेला जाएगा।

पहले मैच में लीग में पदार्पण कर रही सुदेवा दिल्ली एफसी का मुकाबला मोहम्मडन एफसी से होगा। दिन के अन्य मैचों में पंजाब एफसी का सामना आइजोल एफसी और गोकुलम एफसी का मुकाबला चेन्नई सिटी एफसी से होगा। लीग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनंदो धर ने कहा, ‘टीमों की संख्या पांच (क्वालीफायर्स के समय) से बढ़कर 11 हो गयी है जबकि मैचों की संख्या 25 से बढ़कर 100 तक पहुंच गयी है। ऐसे में जैव-सुरक्षित माहौल के साथ टीमों तथा आयोजकों के बीच समन्वय बनाए रखना जरूरी होगा।' 

उन्होंने कहा, ‘टूर्नामेंट की सफलता और जैव-बुलबुले को बनाए रखने के लिए इसमें भाग लेने वाली टीमों का सहयोग जरूरी होगा। सभी को टीम के रूप में कोशिश करने के साथ आगे बढ़ना होगा।' टूर्नामेंट में भाग ले रही 11 टीमों के खिलाड़ी कोलकाता के दो अलग-अलग पांच सितारा होटल में ठहरे हैं। पंजाब एफसी, इंडियन एरोज, चेन्नई सिटी एफसी, टीआरएयू एफसी और चर्चिल ब्रदर्स एफसी के खिलाड़ी एक होटल में हैं जबकि रीयल कश्मीर एफसी, मोहम्मडन एससी, गोकुलम केरल एफसी, आइजोल एफसी, सुदेवा दिल्ली एफसी और नेरोका एफसी के खिलाड़ी दूसरे होटल में रूके हैं। टीमों के खिलाड़ियों ने होटल में पहुंचने के बाद 26 दिसंबर से जैव सुरक्षित माहौल में प्रवेश किया।

इसके बाद वे सात दिनों के पृथकवास पर रहे। होटल में आने से पहले और आने के बाद लगातार अंतराल पर खिलाड़ियों को कोविड-19 के लिए जरूरी आरटी-पीसीआर जांच से गुजरना पड़ा। टूर्नामेंट के दौरान उन्हें हर पांच-छह दिनों के अंतराल पर इस जांच से गुजरना होगा। खिलाड़ियों और टीमों के सहयोगी सदस्यों से जुड़े होटल के कर्मचारी तथा ड्राइवर और सुरक्षाकर्मी भी इस जैव-सुरक्षित माहौल का हिस्सा है। धर ने कहा, ‘सभी खिलाड़ियों और अधिकारियों की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसमें कभी कोई समझौता नहीं किया जा सकता है।' जांच में किसी के कोविड-19 पॉजिटिव आने पर उसे 17 दिनों तक पृथकवास पर रहना होगा। 

.
.
.
.
.