Sports

ज्यूरिख : बायर्न म्युनिख के फॉरवर्ड रॉबर्ट लेवांडोवस्की एक बार फिर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पुरूष फुटबॉलर चुने गए हैं जिन्होंने लियोनेल मेस्सी और मोहम्मद सालाह जैसे सितारों को पछाड़ा। पिछले महीने मेस्सी ने उन्हें पछाड़कर बलोन डी ओर पुरस्कार जीता था। अर्जेंटीना को 2021 कोपा अमेरिका खिताब दिलाने वाले मेस्सी फीफा के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर की दौड़ में दूसरे और लिवरपूल के सालाह तीसरे स्थान पर रहे। 

लेवांडोवस्की ने म्युनिख से वीडियो लिंक के जरिए कहा, ‘यह पुरस्कार जीतकर मैं गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं।' क्लब अधिकारियों ने उन्हें आनलाइन ट्रॉफी प्रदान की। लेवांडोवस्की 200 से अधिक देशों के राष्ट्रीय टीम कप्तानों और कोचों के साथ चुनिंदा मीडिया की पहली पसंद थे। मेस्सी को दुनिया भर के प्रशंसकों से पोलैंड के कप्तान से दुगुने से भी ज्यादा वोट मिले। तीनों उम्मीदवारों ने भी अपनी अपनी टीम के कप्तान के तौर पर वोट डाले। 

लेवांडोवस्की ने मेस्सी को दूसरे नंबर पर रखा जबकि सालाह ने अपने शीर्ष तीन में दोनों को रख। मेस्सी ने शीर्ष तीन में नेमार और काइलान एमबाप्पे को रखा जो अब पेरिस सेंट जर्मेन में उनके साथ खेलते हैं। लेवांडोवस्की ने 2020.21 सत्र में बायर्न को खिताब दिलाने के साथ बुंडेस्लिगा में रिकॉर्ड 41 गोल किए। उन्होंने 2021 में 43 गोल करके गर्ड म्यूलर के दोनों रिकॉर्ड तोड़े। उन्होंने कहा, ‘अगर कुछ साल पहले आप मुझसे पूछते कि क्या यह संभव है तो मैं कहता कि नहीं। बुंडेस्लिगा में इतने गोल करना असंभव है।' 

महिला वर्ग में बलोन डि ओर विजेता एलेक्सिया पुतालेस को ही इस पुरस्कार के लिए चुना गया। वह बार्सीलोना की कप्तान थी जिसने पहली महिला चैम्पियंस लीग जीती। चेलसी की सैम केर दूसरे स्थान पर रही जबकि बार्सीलोना की जेनिफर हरमोसो तीसरे स्थान पर रही। कोचिंग के दोनों पुरस्कार चेलसी के नाम रहे। थॉमस टचेल को सर्वश्रेष्ठ पुरूष कोच और एम्मा हायेस को सर्वश्रेष्ठ महिला कोच चुना गया। टचेल ने मैनचेस्टर सिटी के पेप गार्डियोला को पछाड़ा। 

फीफा विश्व एकादश में सालाह को जगह नहीं मिली चूंकि फॉरवर्ड पंक्ति में मेस्सी, लेवांडोवस्की, एर्लिंग हालैंड और क्रिस्टियानो रोनाल्डो को चुना गया। रोनाल्डो समारोह के मुख्य अतिथि भी थे जो खुद वहां मौजूद थे और पुरूष राष्ट्रीय फुटबॉल टीम के लिए सर्वाधिक गोल करने का सर्वकालिक रिकॉर्ड तोड़ने के लिए उन्होंने विशेष पुरस्कार लिया। 
 

.
.
.
.
.