Sports

बेंगलुरू : कर्नाटक प्रीमियर लीग (केपीएल) में स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से घिरी बेलगावी पैंथर्स की फ्रेंचाइजी को राज्य क्रिकेट बोर्ड ने निलंबित करने का फैसला किया। बेलगावी के मालिक अली अश्फाक थारा उन 6 लोगों में शामिल जिन्हें अब तक की जांच के बाद फिक्सिंग तथा भ्रष्टाचार के आरोपों में गिरफ्तार किया गया है। शुरूआती जांच की रिपोर्ट के अनुसार कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ (केएससीए) ने बेलगावी के मालिकों की सदस्यता निलंबित कर दी है।

केएससीए ने जारी बयान में बताया कि यदि फ्रेंचाइजी के मालिकों पर कथित आरोप साबित हो जाते हैं तो कर्नाटक प्रीमियर लीग से फ्रेंचाइजी की मान्यता को रद्द कर दिया जाएगा। केएससीए का बयान बेलारी टस्कर्स और रणजी क्रिकेटरों सीएम गौतम तथा अबरार काजी की गिरफ्तारी के एक दिन बाद आया है। कर्नाटक रणजी टीम के दोनों क्रिकेटरों को केपीएल फाइनल में स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों में गिरफ्तार किया गया था। 

अभी तक इस मामले की जांच कर रही कर्नाटक पुलिस की केंद्रीय अपराध शाखा ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है। केएससीए ने कहा कि जिन भी फ्रेंचाइजियों, खिलाडिय़ों, सपोर्ट स्टाफ तथा मैच अधिकारियों को शुरूआती जांच के बाद भ्रष्टाचार में शामिल पाया गया है उनकी सदस्यता को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जा रहा है तथा उनके दोषी पाए जाने के बाद उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

राज्य क्रिकेट संघ ने साथ ही कहा कि वह जांच एजेंसी सीसीबी को अपनी हर संभव मदद मुहैया कराएगी और दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का भी भरोसा दिया। उन्होंने साथ ही कहा कि राज्य क्रिकेट पारदर्शिता के साथ टूर्नामेंट कराने के लिए प्रतिबद्ध है और भ्रष्टाचारियों को माफ नहीं करेगी।

.
.
.
.
.