Sports

जालन्धर : किंग्स इलैवन पंजाब के स्टार बल्लेबाज केएल राहुल ने मुंबई इंडियंस के साथ वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए प्लेऑफ के लिए बेहद महत्वपूर्ण मैच में 94 रन बनाते ही चार रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए। यह रिकॉर्ड हैं- आईपीएल-11 में सबसे ज्यादा रन, सबसे ज्यादा चौके, छक्के और छह फिफ्टी लगाने के।

62 की औसत से रन बना रहे हैं राहुल
राहुल अब तक 13 मैच खेल चुके हैं। इसमें उनके नाम सीजन के सर्वाधिक रन 652 हैं। उन्होंने दिल्ली डेयरडेविल्स के बल्लेबाज ऋषभ पंत का रिकॉर्ड तोड़ा जोकि 12 मैच में 582 रन बनाकर टॉप पर बने हुए थे। बता दें कि पंत के नाम पर सीजन का सबसे बढ़ा व्यक्तिगत स्कोर 128 रन बनाने का रिकॉर्ड भी है। पंत के बाद राजस्थान रॉयल्स के जोस बटलर बने हुए हैं। लगातार पांच फिफ्टी लगाकर चर्चा में आए बटलर 13 मैच में 548 रन बना चुके हैं। सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियम्सन 12 मैच में 544 रन बनाकर इस लिस्ट में चौथे स्थान पर बने हुए हैं।

सीजन में सबसे ज्यादा छक्के भी राहुल के नाम
पहले मैच से ही विरोधी गेंदबाजों के पसीने छुड़ा रहे केएल राहुल सीजन में सबसे ज्यादा छक्के लगाने के मामले में भी नंबर वन हो गए हैं। राहुल के नाम पर 32 छक्के दर्ज हो गए हैं। उन्होंने ऋषभ पंत को पीछे छोड़ा जोकि 12 मैच में 31 छक्के लगाकर टॉप पर चल रहे थे। इस लिस्ट में पहले से ही एबी डीविलियर्स, एमएस धोनी, अंबाति रायडू 29-29 छक्के लगाकर तीसरे स्थान पर चल रहे हैं।

चौके मारने में भी अव्वल हो गए राहुल
छक्के मारने के मामले में पहले नंबर पर चल रहे केएल राहुल चौके मारने में भी अव्वल हो गए हैं। उनके नाम 13 मैच में 65 चौके मारने का रिकॉर्ड भी दर्ज हो गया है। उन्होंने इस रिकॉर्ड के लिए ऋषभ पंत को ही पीछे छोड़ा। पंत के नाम पर अब तक 61 चौके दर्ज थे। इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर 60 चौके लगाकर मुंबई के सूर्यकुमार यादव तो चौथे नंबर पर 52 चौकों के साथ राजस्थान रॉयल्स के जोस बटलर बने हुए हैं।

लगाई छठी फिफ्टी, बटलर को छोड़ा पीछे
राहुल की मुंबई के खिलाफ 94 रन की पारी उनकी छठी फिफ्टी थी। ऐसा कर वह इस सीजन में सर्वाधिक फिफ्टी लगाने की लिस्ट में दूसरे नंबर पर आ गए हैं। उन्होंने राजस्थान रॉयल्स के जोस बटलर को पीछे छोड़ा जो कि लगातार पांच पारियों में फिफ्टी लगाकर रिकॉर्ड बना चुके थे। इस लिस्ट में अभी भी सबसे ऊपर सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियम्सन सात फिफ्टी के साथ बने हुए हैं।

.
.
.
.
.