Sports

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि लोकेश राहुल की तरह प्रतिभावान खिलाड़ी को टेस्ट में पैर जमाने के लिए उनके पास ‘बहुत समय हैं’, क्योंकि इस विकेटकीपर बल्लेबाज के पास विभिन्न प्रारूपों में मैच विजेता खिलाड़ी बनाने की क्षमता है।

KL Rahul, Sourav Ganguly, BCCI, Sports news, Cricket news in hindi, भारतीय क्रिकेट बोर्ड, बीसीसीआई, सौरव गांगुली, लोकेश राहुल,  Cricket Board of India, BCCI, Sourav Ganguly, Lokesh Rahul

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सत्र में किंग्स इलेवन पंजाब की कप्तानी करने वाले राहुल मौजूदा सत्र में फिलहाल सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों में शीर्ष पर है। उनकी कप्तानी से प्रभावित गांगुली का मानना है कि कर्नाटक का यह खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट के लिए बना है। उन्होंने कहा -मैं एक क्रिकेटर के तौर पर कह रहा हूं कि मेरे पास टेस्ट मैचों के लिए लोकेश राहुल के लिए काफी समय है। टीम में हालांकि कौन रहेगा और कौन नहीं ,यह फैसला करना चयनकर्ताओं का काम है।

KL Rahul, Sourav Ganguly, BCCI, Sports news, Cricket news in hindi, भारतीय क्रिकेट बोर्ड, बीसीसीआई, सौरव गांगुली, लोकेश राहुल,  Cricket Board of India, BCCI, Sourav Ganguly, Lokesh Rahul

आईपीएल में राहुल की ज्यादातर बड़ी पारियां किंग्स इलेवन पंजाब को जीत नहीं दिला सकी लेकिन गांगुली ने उम्मीद जताई की भारत के लिए उनके रन मैच विजेता साबित होंगे। इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा- किसी अनुभवी खिलाड़ी की तरह मेरा मानना है कि वह (राहुल) ऐसे खिलाड़ी है जो हर प्रारूप में योगदान दे सकते है। मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूं। उम्मीद है कि वह भारत को जीत दिलाने में अपना योगदान देगें, जो महत्वपूर्ण है।

KL Rahul, Sourav Ganguly, BCCI, Sports news, Cricket news in hindi, भारतीय क्रिकेट बोर्ड, बीसीसीआई, सौरव गांगुली, लोकेश राहुल,  Cricket Board of India, BCCI, Sourav Ganguly, Lokesh Rahul

गांगुली ने एक बार फिर दोहराया कि विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम को एसईएनए (दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया) देशों में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। गांगुली ने कहा- उन्हें (कोहली) यह समझना होगा कि भारत से बाहर अच्छा प्रदर्शन करना होगा। टीम ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला (2018-19) अपने नाम की थी लेकिन उन्हें दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड (दोनों 2018) और न्यूजीलैंड (2020) में और बेहतर प्रदर्शन करना चाहिए था।

.
.
.
.
.