Sports

बर्मिंघम: गत चैम्पियन आस्ट्रेलिया से होने वाले विश्व कप सेमीफाइनल से पहले तेज गेंदबाज लियाम प्लंकेट ने कहा कि आईपीएल में खेलने के अनुभव की बदौलत इंग्लैंड की मौजूदा पीढ़ी दबाव को निपटने में मदद मिली। इंग्लैंड ने लीग चरण के अंत में दो हार झेलने के बावजूद अंक तालिका में तीसरे स्थान पर रहकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। उन्हें नाकआउट में जगह बनाने के लिये अंतिम तीन ग्रुप मैचों में से दो में जीत की दरकार थी। 

आस्ट्रेलिया से हारने के बाद उसने भारत और न्यूजीलैंड के खिलाफ शानदार वापसी कर अंतिम चार में जगह बनायी। प्लंकेट ने कहा, ‘आप दबाव से कैसे निपटते हो, यही अहम होता है। दबाव का होना बुरी चीज नहीं है। लोग दबाव में भी आ सकते हैं और इससे बाहर भी निकल सकते हैं और उन क्षण का आनंद उठा सकते हैं।' 

आईसीसी ने प्लंकेट के हवाले से लिखा, ‘अन्य खिलाड़ी भी दबाव में खेले हैं और वे आईपीएल में और दुनिया में चलने वाले टूर्नामेंट में खेले हैं।' प्लंकेट ने कहा कि ग्रुप चरण में मिली हार से टीम और मजबूत हो गई है। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि उन शिकस्त ने हमें मजबूत बना दिया है। हमारे कुछ मैच खराब रहे लेकिन मुझे लगता है कि हमने समय पर वापसी की। हम अब अपना सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खेल रहे हैं और हम अब भी सुधार कर सकते हैं।'

 

.
.
.
.
.