Sports

भुवनेश्वर : भारतीय पुरूष हॉकी टीम एफआईएच प्रो लीग में आठ मैचों के बाद अच्छी स्थिति में है और इंग्लैंड के खिलाफ शनिवार से यहां शुरू हो रहे दो मैचों में जीत दर्ज करके वह तालिका में शीर्ष पर पहुंचने की कोशिश करेगी। इस मुकाबले का दूसरा मैच रविवार को खेला जाएगा। 

टोक्यो ओलंपिक कांस्य पदक विजेता भारत ने अब तक इस सत्र में आठ मैच खेले हैं और वह 16 अंकों के साथ जर्मनी (17 अंक) के बाद तालिका में दूसरे स्थान पर है। भारतीय टीम ने फ्रांस (5-0, 2-5) और स्पेन (5-4, 3-5) के खिलाफ एक मैच में जीत दर्ज की थी जबकि एक मैच में उसे हार मिली थी। इससे पहले उसने दक्षिण अफ्रीका को 10-2, 10-2 से हराया था। 

भारत को हाल में अर्जेंटीना के खिलाफ पहले मैच में 2-2 (शूट-आउट में 1-3) से हार का सामना करना पड़ा लेकिन दूसरे मैच में उसने 4-3 से रोमांचक जीत दर्ज की थी। इंग्लैंड के खिलाफ मुकाबले से पहले रक्षापंक्ति भारत के लिये चिंता का विषय है, जो दबाव में बिखर जाती है। भारत ने कुछ गोल आसानी से गंवाये हैं और उप कप्तान हरमनप्रीत सिंह ने स्वीकार किया है कि टीम को अपने रक्षण में सुधार करना होगा। 

हरमनप्रीत ने कहा, ‘हमारा मुख्य ध्यान टीम को मैच दर मैच मजबूत बनाना है। हम अपने कमजोर और मजबूत पक्षों के बारे में बहुत कुछ सीख रहे हैं। हमें अपनी ‘फिनिशिंग' में सुधार करने, अधिक पेनल्टी कार्नर हासिल करने की जरूरत है। रक्षकों को पेनल्टी कार्नर देने से बचना होगा।' भारत की अग्रिम पंक्ति ने हालांकि प्रभावशाली प्रदर्शन करके आठ मैचों में 42 गोल किये हैं। मंदीप सिंह विशेष रूप से विपक्षी टीम के सर्कल के अंदर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण गोल किये हैं जिनमें अर्जेंटीना के खिलाफ आखिरी मिनट में किया गया विजयी गोल भी शामिल है। 

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह की अगुवाई वाली मध्यपंक्ति में हार्दिक सिंह, विवेक सागर प्रसाद, नीलकांत शर्मा और सुमित जैसे खिलाड़ी हैं। टीम में चार विश्व स्तरीय ड्रैग फ्लिकर हरमनप्रीत, कप्तान अमित रोहिदास, वरुण कुमार और युवा जुगराज सिंह हैं जिससे भारत अपने प्रतिद्वंद्वियों पर मजबूत नजर आता है। जुगराज ने सीनियर टीम में पदार्पण करने के बाद से शानदार प्रदर्शन किया है। उन्होंने अर्जेंटीना के खिलाफ दूसरे मैच में दो गोल किये थे। 

रोहिदास ने कहा, ‘वह (जुगराज) वास्तव में अच्छा खेल रहा है। वह विश्व स्तरीय ड्रैगफ्लिकर है। यह टीम के लिए फायदे की स्थिति है। वह मौकों का पूरा लाभ उठा रहा है।' भारत ने इससे पहले आखिरी बार इंग्लैंड से टोक्यो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में खेला था जिसमें उसने 3-1 से जीत हासिल की थी। भारतीय टीम अभी विश्व रैंकिंग में चौथे जबकि इंग्लैंड सातवें स्थान पर है। इंग्लैंड अभी दो जीत और इतनी ही हार से छह अंक के साथ प्रो लीग तालिका में सातवें स्थान पर है। इंग्लैंड ने स्पेन को 6-1 और 3-2 से हराकर अपने प्रो लीग अभियान की सकारात्मक शुरुआत की, लेकिन इसके बाद वह अर्जेंटीना से 1-3 और 0-2 से हार गया था। 

.
.
.
.
.