Sports

बर्मिंघम : भारतीय पुरूष हॉकी टीम राष्ट्रमंडल खेलों में पदक की ओर अगला कदम रखने की कवायद में सेमीफाइनल में शनिवार को निचली रैंकिंग वाली दक्षिण अफ्रीका से खेलेगी तो उसका पलड़ा भारी रहेगा। दक्षिण अफ्रीका ने गत चैम्पियन न्यूजीलैंड पर अप्रत्याशित जीत दर्ज करके पूल ए से सेमीफाइनल में जगह बनाई। वह आस्ट्रेलिया के बाद पूल ए में दूसरे स्थान पर रही। दूसरी ओर भारत पूल बी में शीर्ष पर रहा जिससे सेमीफाइनल में सामना आस्ट्रेलिया से नहीं होगा। आस्ट्रेलियाई टीम अब इंग्लैंड से खेलेगी। 

भारत टूर्नामेंट में अब तक अपराजेय रहा है और 3 जीत दर्ज करने के अलावा एक ड्रॉ खेला। दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका ने 2 मैच जीते, एक ड्रॉ खेला और एक गंवाया। मौजूदा फॉर्म और विश्व रैंकिंग को देखते हुए दुनिया की पांचवें नंबर की टीम भारत का पलड़ा 13वीं रैंकिंग वाली दक्षिण अफ्रीका पर भारी है। उपकप्तान हरमनप्रीत सिंह शानदार फॉर्म में हैं और अब तक 9 गोल कर चुके हैं। उन्होंने 8 गोल पेनल्टी कॉर्नर पर और एक पेनल्टी स्ट्रोक पर दागा। उनके अलावा वरूण कुमार, जुगराज सिंह और अमित रोहिदास के रूप में भारत के पास पेनल्टी कॉर्नर के लिए कई विकल्प हैं।

मिडफील्ड की जान कप्तान मनप्रीत सिंह और विवेक सागर प्रसाद हैं जबकि नीलाकांता शर्मा भी शानदार फॉर्म में हैं। फॉरवर्ड पंक्ति में मनदीप सिंह ने उम्दा प्रदर्शन करके कई मौके बनाए और गोल भी दागे। उनके अलावा ललित उपाध्याय, शमशेर सिंह, आकाशदीप सिंह और अभिषेक ने भी आक्रामक खेल दिखाया है।

हरमनप्रीत ने कहा- टोक्यो ओलिम्पिक में एक टीम के रूप में हमने अपने बारे में बहुत कुछ सीखा और हमें बेहतर प्रदर्शन में मदद मिली। अभी हमारा लक्ष्य कल का मैच जीतना है। उसके बाद आगे के बारे में सोचेंगे। दूसरी ओर दक्षिण अफ्रीका के हौसले न्यूजीलैंड को हराकर बुलंद है। उसके ड्रैग फ्लिकर कोनोर ब्यूचैंप ने कहा- इससे फर्क नहीं पड़ता कि हम सेमीफाइनल में किससे खेल रहे हैं। हम अपने खेल पर फोकस करेंगे।

.
.
.
.
.