Sports

पर्थ : सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा और जेमिमा रोड्रिग्ज की उम्दा पारियों के बाद पूनम यादव की फिरकी के जादू से भारत ने आईसीसी महिला टी20 विश्व कप ग्रुप ए मैच में बांग्लादेश को 18 रन से हराकर लगातार दूसरी जीत दर्ज की। भारत के 143 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए बांग्लादेश की टीम लेग स्पिनर पूनम यादव (18 रन पर तीन विकेट), तेज गेंदबाज शिखा पांडे (14 रन पर दो विकेट) और अरुणधति रेड्डी (33 रन पर दो विकेट) की धारदार गेंदबाजी के सामने आठ विकेट पर 124 रन ही बना सकी। बांग्लादेश की ओर से विकेटकीपर बल्लेबाज निगार सुल्ताना ने सर्वाधिक 35 रन बनाए जबकि सलामी बल्लेबाज मुर्शिदा खातून ने 30 रन की पारी खेली।  

PunjabKesari

भारत ने इससे पहले सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा (39) और जेमिमा रोड्रिग्ज (34) के अलावा वेदा कृष्णमूर्ति (नाबाद 20) की उम्दा पारियों से छह विकेट पर 142 रन बनाए। टीम हालांकि अंतिम पांच ओवर में 35 रन ही जोड़ सकी। बांग्लादेश की ओर से पन्ना घोष और सलमा खातून ने धारदार गेंदबाजी करते हुए 25-25 रन देकर दो-दो विकेट चटकाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरे बांग्लादेश की शुरुआत खराब रही। टीम ने दूसरे ओवर में ही शमीमा सुल्ताना (03) का विकेट गंवा दिया जिन्होंने शिखा की गेंद पर दीप्ति को कैच थमाया।

मुर्शिदा ने तीसरे ओवर में दीप्ति पर तीन चौके मारे। वह हालांकि इसी ओवर में भाग्यशाली रहीं जब स्क्वायर लेग पर शेफाली उनका कैच लपकने में नाकाम रहीं। मुर्शिदा ने संजीदा इस्लाम के साथ मिलकर पावर प्ले में टीम का स्कोर एक विकेट पर 33 रन तक पहुंचाया। कप्तान हरमनप्रीत ने आठवें ओवर में गेंद तेज गेंदबाज अरुणधति को थमाई। मुर्शिदा ने उनका स्वागत चौके के साथ किया लेकिन इसी ओवर में गेंद को हवा में लहराकर मिड आफ पर रिचा घोष को कैच दे बैठीं। निगार ने इसके बाद मोर्चा संभाला। उन्होंने पूनम पर चौके से खाता खोला और फिर अरुणधति पर भी दो चौके मारे।  

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की जीत में अहम भूमिका निभाने वाली पूनम ने संजीदा (10) को विकेटकीपर तानिया भाटिया ने हाथों कैच कराया। अरुणधति ने अगले ओवर में फरगाना हक (00) को भी तानिया के हाथों कैच कराया। बांग्लादेश को अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए 49 रन की दरकार थी। पूनम ने फाहिमा खातून (17) को शार्ट स्क्वायर लेग पर शेफाली के हाथों कैच कराया जबकि अगले ओवर में राजेश्वरी ने निगार को पवेलियन भेजकर भारत का पलड़ा भारी किया। पूनम ने इसके बाद जहांनारा आलम (10) को स्टंप कराया। राजेश्वरी के 19वें ओवर में 11 रन बने लेकिन इसके बावजूद बांग्लादेश को शिखा के अंतिम ओवर में 22 रन की जरूरत थी लेकिन इस ओवर में सिर्फ तीन रन बने। इससे पहले बांग्लादेश ने टास जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया।

PunjabKesari

भारत को मैच शुरू होने से पहले ही झटका लगा जब स्मृति मंधाना वायरल बुखार के कारण बाहर हो गईं। भारत ने दूसरे ओवर में ही तानिया (02) का विकेट गंवा दिया जो सलमा की गेंद को आगे बढ़कर खेलने के प्रयास में पूरी तरह चूक गई और विकेटकीपर निगार ने उन्हें स्टंप कर दिया। शेफाली ने शुरुआत से ही आक्रामक तेवर दिखाए। उन्होंने तेज गेंदबाज जहांनारा और सलमा पर छक्कों के साथ शुरुआत की। शेफाली ने जहांनारा के दूसरे ओवर में भी दो चौके और एक छक्का मारा जबकि जेमिमा ने भी नाहिदा अख्तर पर छक्का जड़ा। शेफाली ने पन्ना पर अपना चौथा छक्का जड़ा लेकिन इसी ओवर में शमीमा सुल्ताना को कैच दे बैठीं। उन्होंने 17 गेंद की अपनी पारी में चार छक्के और दो चौके मारे।

PunjabKesari

भारत ने पावर प्ले में दो विकेट पर 54 रन बनाए। हरमनप्रीत (08) ने नाहिदा पर चौके के साथ खाता खोला लेकिन पन्ना की गेंद पर रुमाना अहमद को आसान कैच दे बैठीं। भारत ने 11वें से 13वें ओवर में सिर्फ 13 रन बनाए जिससे टीम पर दबाव बना और जेमिमा गैरजरूरी रन लेने की कोशिश में रन आउट हो गईं। उन्होंने 37 गेंद का सामना करते हुए दो चौके और एक छक्का मारा। स्मृति की जगह खेल रही रिचा घोष (14) ने फातिमा खातून पर लगातार दो चौकों के साथ 32 गेंद के बाउंड्री के सूखे को खत्म किया। रिचा हालांकि 17वें ओवर में सलमा की गेंद पर बड़ा शाट खेलने की कोशिश में लांग आन पर नाहिदा के हाथों लपकी गईं। दीप्ति शर्मा भी 11 रन बनाने के बाद रन आउट हो गईं। वेदा ने 18वें ओवर में नाहिदा पर तीन चौकों के साथ रन गति में इजाफा किया लेकिन अंतिम दो ओवर में सिर्फ 13 रन बने।

टीमें :

बांगलादेश महिला (प्लेइंग इलेवन) : मुर्शिदा खातुन, शमीमा सुल्ताना, संजीदा इस्लाम, निगार सुल्ताना (विकेटकीपर), फरगाना होक, रुमाना अहमद, सलमा खातुन (कप्तान), फहीमा खातुन, जहां आरा आलम, पन्ना घोष, नाहिदा एकटर 

भारत महिला (प्लेइंग इलेवन) : शैफाली वर्मा, तान्या भाटिया (W), जेमिमा रोड्रिग्स, हरमनप्रीत कौर (कप्तान), दीप्ति शर्मा, ऋचा घोष, वेदा कृष्णमूर्ति, शिखा पांडे, अरुंधति रेड्डी, पूनम यादव, राजेश्वरी गायकवाड़ 

.
.
.
.
.