Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : विशाखापट्टनम में खेले गए पहले टेस्ट मैच में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 203 रनों के बड़े अंतर से हरा दिया है। इस मैच में भारतीय टीम की बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही शानदार रही। इस जीत से भारत विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप में 160 अंको के साथ शीर्ष पर बरकरार है। लेकिन यहां पर उन कारणों को जानने की कोशिश करेंगे जिस कारण भारत को द. अफ्रीका पर फतह हासिल करने में मदद मिली। 

1. वर्ल्ड और टी20 की तरह टेस्ट में भी रोहित शर्मा का ओपनिंग करना सफल रहा। रोहित ने दोनों इनिंग्स में शतकीय पारी खेली जिससे दोनों बार भारत ने मजबूत स्कोर बनाया। पहली पारी में रोहित शर्मा ने 176 जबकि दूसरी पारी में 127 रन बनाए। रोहित को शानदार बल्लेबाजी के लिए 'मैन ऑफ द मैच' का खिताब दिया गया। 

2. मयंक अग्रवाल ने पहली पारी में 215 रनों की पारी खेली थी। इसी के साथ ही उन्होंने रोहित के साथ 317 रनों की साझेदारी भी की जो किसी भारतीय जोड़ी द्वारा तीसरी सबसे सबसे बड़ी सांझेदारी रही। हालांकि दूसरी पारी में वो सिर्फ 7 रन बनाकर आउट हो गए थे लेकिन पहली पारी में मयंक ने भारत को मजबूत स्कोर बनाने में सहायता प्रदान की। 

3. लगातार पांच टेस्ट मैचों से बाहर रहने के बाद रविचंद्रन अश्विन की धमाकेदार वापसी ने भी द. अफ्रीका पर दबाव बनाया और भारत को जीताने में अहम योगदान दिया। उन्होंने कुल 11 विकेट झटके जिसमें 7 विकेट पहली पारी और 4 विकेट दूसरी पारी में अपने नाम किए। इतना ही नहीं उन्होंने महज 66 मैचों में 350 विकेट लेकर सबसे तेज विकेट के मुथैया मुरलीधरन के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। 

4. आलराउंडर रविंद्र जडेजा ने भी भारत की जीत में अहम योगदान देते हुए कुल 6 विकेट अपने नाम किए जिसमें से 2 विकेट पहली पारी में और अन्य 4 विकेट दूसरी पारी में झटके। इतना ही नहीं ये आलराउंडर बल्ले से भी रन बनाने में पीछे नहीं रहा और जब उन्हें मौका मिला तो उन्होंने पहली पारी में 30 और दूसरी में 40 रन बनाए। जहां पहली पारी में वह नाबाद वापस लौटे। वहीं दूसरी पारी में उन्हें रबाडा से हाथों बोल्ड होना पड़ा। 

5. दूसरी पारी में मोहम्मद शमी की गेंदबाजी भी भारत के लिए टर्निंग प्वाइंट साबित हुई। पहली इनिंग में एक भी विकेट हासिल न करने वाले शमी ने दूसरी इनिंग में घातक गेंदबाजी करते हुए 5 विकेट चटकाए जिसने दूसरी इनिंग में लक्ष्य प्राप्ति के लिए उतरी द. अफ्रीकी टीम की कमर तोड़ दी। 

.
.
.
.
.